संवाद सहयोगी, बावल (रेवाड़ी): बावल थाना क्षेत्र के एक गांव से लापता नौंवी कक्षा की छात्रा की बरामदगी के लिए बृहस्पतिवार को मोहनपुर स्थित धरना स्थल पर 11 गांवों की पंचायत हुई। पंचायत में निर्णय लिया गया कि बच्ची के मिलने तक उनका अनिश्चितकालीन धरना जारी रहेगा। पंचायत की अध्यक्षता हरि ¨सह चांदूवास ने की तथा सभी ने एक स्वर में छात्रा को जल्द से जल्द बरामद करने की मांग की। आंदोलन को आगे बढ़ाने के लिए ग्रामीणों द्वारा 14 जुलाई को 21 गांवों की पंचायत बुलाने का निर्णय लिया गया। 14 जुलाई को आयोजित होने वाली पंचायत में ठोस निर्णय लिया जाएगा। कांग्रेस सहित अन्य राजनीतिक दलों व सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने भी धरना स्थल पर पहुंच कर अपना समर्थन दिया।

वक्ताओं ने कहा कि पुलिस बच्ची का सुराग लगाने में नाकाम रही है। यदि शुरूआत में पुलिस मामले को गंभीरता से लेती तो बच्ची की शीघ्र तलाश की जा सकती थी। ग्रामीणों के आंदोलन शुरू करने के बाद पुलिस सक्रिय हुई है। पुलिस बार-बार समय मांगती रही, परंतु अब तक कोई सुराग नहीं लगा पाई है कि बच्ची कहां है। उन्होंने कहा कि जब तक बच्ची नहीं मिलती है तब तक उनका अनिश्चितकालीन धरना शांतिपूर्वक जारी रहेगा। आगामी रणनीति के लिए सर्वसम्मति से ग्रामीणों ने 21 गांवों की पंचायत बुलाने का निर्णय लिया गया। पंचायत में जय¨सहपुर खेड़ा, चांदूवास, आनंदपुर, मोहनपुर, ओढ़ी, केशोपुर, राम¨सहपुरा, टांकड़ी, खंडोडा, शक्ति परिषद खोरी की सदस्य, जिला पार्षद रोहन यादव सहित अन्य संगठनों के प्रतिनिधि मौजूद रहे।

-----

कैप्टन पहुंचे धरना स्थल पर

धरना स्थल पर पहुंचे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री कैप्टन अजय ¨सह यादव ने कहा कि शिवानी का 15 दिन बाद भी कोई सुराग न लगना पुलिस की बहुत बड़ी लापरवाही को उजागर कर रहा है। पुलिस प्रशासन का इस मामले में उदासीन रवैया है। सरकार के प्रतिनिधियों से मिलने के बाद भी पीड़ित परिवार को कोई मदद नहीं पाई। कांग्रेसी विधायकों के माध्यम से मामले को विधानसभा में भी उठवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी पीड़ित परिवार के साथ है। वे मुख्यमंत्री से भी इस मामले में बात करेंगे। बहुजन समाज पार्टी के प्रतिनिधियों ने भी धरने को अपना समर्थन दिया।

----

प्रशासनिक अधिकारी भी पहुंचे पंचायत में

बृहस्पतिवार को आयोजित पंचायत में अतिरिक्त उपायुक्त अंजू चौधरी, उप पुलिस अधीक्षक सुरेश कुमार हुड्डा, तहसीलदार मनीष कुमार, बावल थाना एसएचओ सुरेंद्र श्योराण भी पहुंचे। अधिकारियों ने कहा कि पुलिस बच्ची की हर स्तर पर तलाश कर रही है। ग्रामीण एक कमेटी गठित करे तथा बच्ची को ढूंढने में पुलिस की मदद करें। ग्रामीणों ने कहा कि उनका धरना शांतिपूर्वक चल रहा है तथा बच्ची के नहीं मिलने तक वे धरना खत्म नहीं करेंगे। ग्रामीणों ने आंदोलन के दौरान किसी भी तरह की ¨हसा न होने देने का आश्वासन दिया। ग्रामीणों के अपनी मांग पर अड़े रहने के कारण अधिकारी बैरंग वापस लौट गए।

By Jagran