महेश कुमार वैद्य, रेवाड़ी

नमो-नरेंद्र मोदी। मनो-मनोहरलाल। पिछली बार जब देश का चुनाव था तब भाजपा नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करने के बाद मैदान-ए-जंग में उतरी थी, परंतु हरियाणा विधानसभा में मुख्यमंत्री

का चेहरा सामने नहीं किया था। तब प्रदेश में आठ की फांस फंसी हुई थी और मुख्यमंत्री पद के लिए एक-दो नहीं पूरे आठ उम्मीदवार मैदान में थे, लेकिन इस बार ऐसा नहीं है। नमो अगेन की कामयाबी के बाद अब प्रदेश में भी मनो अगेन का नारा लगना शुरू हो गया है। मनोहरलाल के लिए सबसे बड़ी ताकत ग्रुप-डी, पुलिस व अन्य नौकरियों में पारदर्शिता सुनिश्चित करना है। अपवादों को छोड़कर हरियाणा में कभी भी बिना सिफारिश नौकरी नहीं मिली। हालांकि नौकरियों में पैसा लेने के आरोपों में उतना दम

नहीं रहा है जितना सिफारिश के आधार पर नौकरी के आरोपों में, लेकिन भाजपा ने खर्ची और पर्ची (धन व सिफारिश दोनों) के आरोपों पर कांग्रेस की जमकर घेराबंदी की हुई है। बिना खर्ची और पर्ची के नौकरी देने के दावों का मतदाताओं

पर खासा असर पड़ा है।

------

इमानदार छवि: बड़ी ताकत

पारदर्शिता से नौकरी देने के अलावा मुख्यमंत्री की इमानदार छवि उनकी सबसे बड़ी ताकत है। लोकसभा चुनावों से काफी पहले कांग्रेस की वरिष्ठ नेता किरण चौधरी व कैप्टन अजय सिंह यादव दोनों सार्वजनिक मंचों से मनोहर की इमानदारी की

तारीफ कर चुके थे। जब विपक्ष के दमदार नेता ही मुख्यमंत्री मनोहरलाल की इमानदारी तारीफ कर रहे हों तब यह अनुमान लगाना कठिन नहीं है कि कमलदल की असली ताकत इमानदार चेहरा ही है।

-------

सबका साथ-सबका विकास

कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि आने वाले विधानसभा चुनाव में पारदर्शिता से नौकरियां देना तो बड़ा मुद्दा रहेगा ही, समान विकास व सबका साथ-सबका विकास पर भी चुनाव अभियान केंद्रित रहेगा। वर्ष 2014 के विधानसभा चुनाव में हरियाणा में कुल आठ भाजपा नेता अपने-अपने इलाकों में सीएम बनने के नाम पर वोट मांग रहे थे। अहीरवाल में राव इंद्रजीत सिंह भी उनमें से एक थे। तब यह भाजपा की भी चुनाव जीतने की रणनीति व मजबूरी भी थी, लेकिन इस बार

भाजपा की कोई मजबूरी नहीं है। अब मुख्यमंत्री का चेहरा वोट दिलाने वाला चेहरा बन चुका है।

हालांकि अभी न तो राज्यसभा सदस्य चौ. बीरेंद्र सिंह ने सीएम का सपना देखना बंद किया है व न ही गुड़गांव के सांसद

राव इंद्रजीत सिंह ने उम्मीद छोड़ी है, लेकिन पूरे प्रदेश में खट्टर की स्वीकार्यता अब किसी से छुपी नहीं है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप