जागरण संवाददाता, रेवाड़ी:

जिलेभर में महाशिवरात्रि का पर्व धूमधाम से मनाया गया। सुबह से ही शिवालयों में श्रद्धालुओं का पहुंचना आरंभ हो गया था। मंदिरों में भगवान शिव के भजन के साथ जलाभिषेक का दौर दोपहर तक चलता रहा। प्रमुख शिवालयों पर श्रद्धालुओं के लिए विशेष व्यवस्था की गई थी। श्रद्धालुओं ने महाशिवरात्रि का व्रत रखकर सुख समृद्धि की कामना की। इसमें महिलाओं के साथ पुरुषों ने भी भगवान शिव के सम्मान में व्रत रखकर सुख समृद्धि की कामना की। अधिकांश श्रद्धालुओं ने 14 फरवरी को ही महाशिवरात्रि का व्रत किया।

इन मंदिरों में रही ज्यादा भीड़:

महाशिवरात्रि पर शहर के प्रमुख शिवालयों घंटेश्वर महादेव मंदिर मोती चौक, सेक्टर एक सोलाराही भूतेश्वर महादेव मंदिर, बारा पत्थर स्थित महादेव मंदिर, नई अनाज मंडी स्थित श्रीशिव मंदिर, मॉडल टाउन स्थित शिव चौक, लियो चौक स्थित पंचमुखी महादेव मंदिर, कुतुबपुर स्थित श्रीगोसाईं मंदिर सहित अन्य मंदिरों में भी सुबह से ही पूजा अर्चना हुई।

खूब चढ़े बेलपत्र:

महाशिवरात्रि पर भगवान शिव को बेलपत्र, भांग के साथ फलों में मुख्य रूप से बेर विशेष रूप से चढ़ाया गया। पौराणिक मान्यता के अनुसार चतुर्थी के दिन भोलेनाथ की शादी मां पार्वती से हुई थी। भगवान शिव के भक्तों द्वारा उनकी बरात निकाली जाती है। इसलिए महाशिवरात्रि का पर्व धूमधाम से मनाया जाता है। श्रद्धालुओं में महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव का जलाभिषेक करना शुभ मानते हुए पूजा अर्चना की। श्रद्धालुओं ने भगवान शिव की मूर्ति या शिव¨लग को पंचामृत से स्नान कराकर ऊं नम: शिवाय मंत्र का जाप किया। श्रद्धालुओं ने भगवान शिव को रुद्राक्ष, बेल पत्र, भांग, शिव¨लग, आदि का चढ़ावा किया।

जागरण में झूमते रहे श्रद्धालु

गांव लिसान में स्थित शिव मंदिर मंगलवार रात को जागरण व बुधवार को पं.ओमप्रकाश शर्मा के सान्निध्य में हवन के बाद भंडारे का आयोजन किया गया। सुरेंद्र अग्रवाल ने बताया कि जागरण मे प्रसिद्ध हरियाणवी लोकगायक एंव रेडियो ¨सगर महाशय भीम¨सह प्रजापत एण्ड पार्टी के कलाकारों ने रात भर समां बांधे रखा। बाबा भोलेनाथ के भजनो की प्रस्तुति से वातावरण भक्तिमय हो गया। इस अवसर पर गांव के मिनी बैक प्रांगण मे वालीवाल शू¨टग प्रतियोगिता का भी शुभारंभ किया गया जिसका उदघाटन समाजसेवी विजय भुरथला ने किया। कार्यक्रम का शुभारंभ महाशय भीम¨सह ने गणेश वंदना के साथ भजन प्रस्तुत किए। आशु कवि वेद प्रकाश खोला ने Þशंकर माई डियर मस्ताना, बाईं गोड़ तू बाबा है दीवानाÞ गाकर सभी को भावविभोर कर दिया। युवा कलाकार बीरेंद्र उर्फ अनिल खोरडिया ने एक दिन वो भोले भंडारी बन के ब्रज के नारी गोकुल मे आ गए' सुनाकर शिव की महिमा का उल्लेख किया।

-----------

धारूहेड़ा में हुए कई कार्यक्रम:

धारूहेडा: सेक्टर छह स्थित शिव मंदिर में महाशिवरात्रि हर्षोल्लास मनाया गया। मंदिर के पुजारी अशोक शर्मा ने बताया कि सुबह 7 बजे रूद्राभिषेक, 8 बजे मूर्ति श्रृंगार, दोपहर 12 बजे भजन का आयोजन किया गया। दोपहर बाद में मंदिर में भंडारे का आयोजन किया गया। भंडारे में श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया। मंदिर में दिनभर श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। इस मौके पर उपेंद्र यादव, माया देवी, उमराव, राजेंद्र, समय ¨सह, सुरेश, नरेश कुमार आदि मौजूद थे। इसके अलावा धारूहेड़ा क्षेत्र के विभिन्न मंदिरों में भी श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा।

------------------

ग्रामीण क्षेत्र में रही भारी भीड़

कुंड: कुंड क्षेत्र के गांवों में स्थित शिवालयों मे श्रद्धालुओं की भारी भीड़ रही। गांव खोल के बाबा भैरोनाथ आश्रम, चिताडुंगरा, माजरा और मनेठी स्थित शिव मंदिर व क्षेत्र के अन्य कई गांवों मे स्थित शिव मंदिरों पर श्रद्धालुओं की भीड़ दोपहर तक लगी रही। दूसरी ओर बलवाड़ी स्थित सीताराम मंदिर, नांधा, मायण, मंदोला, अहरोद, बासदुधा, कुंड, मनेठी, माजरा, चिताडुंगरा, पाड़ला, ढाणी राधा, धवाना, लुहाना, मामड़िया, आलियावास स्थित प्राचीन शिव मंदिर, सीहा व खालेटा स्थित मंदिरों में भी देर शाम तक कार्यक्रम जारी रहे।

Posted By: Jagran