पानीपत, जागरण संवाददाता। पानीपत के सेक्टर-29 पार्ट-2 में कृष्णा गार्डन के पास एडवांस के 30 हजार रुपये न देने पर फैक्ट्री मालिक ने कामगार को कमरे में बंद कर दिया। बुधवार कामगार का शव कमरे में फंदे पर लटका मिला। स्वजनों ने आरोप लगाया कि फैक्ट्री मालिक ने हत्या के बाद शव को को फंदे पर लटका दिया है। पुलिस ने धारा 174 के तहत कार्रवाई की है।

पुलिस को दी शिकायत के अनुसार

बिहार के जिला औरेया के राऊपुर गांव निर्वेश ने पुलिस को बताया कि उसका चचेरा भाई 20 वर्षीय राजवीर उर्फ सिंटू पांच साल से पानीपत की अलग-अलग फैक्ट्री में काम करता था। तीन महीने पहले ही वह गांव से लौटा और सेक्टर-29 पार्ट-टू स्थित एक रजाई की फैक्ट्री में काम करने लगा।

फैक्ट्री मालिक ने उसे और उसके नीचे काम करने वाले के कामगारों को कमरा व राशन देने की बात कही थी। इन तीन महीनों में सिंटू पर मालिक का 30 हजार रुपये एडवांस हो गया। एडवांस वापस न देने पर मालिक ने सोमवार को सिंटू को एक कमरे में बंद कर दिया। आरोप है कि उसके साथ मारपीट की गई। इसको देख अन्य कामगार डरकर भाग गए। उन्होंने सिंटू के स्वजनों को सूचना दी। स्वजनों ने फैक्ट्री मालिक से बात करके उनका एडवांस वापस देने का भरोसा दिया। बुधवार को मालिक ने सूचना दी कि उनका बेटे ने फंदा लगाकर जान दे दी है।

शरीर पर चोट के निशान मिले

निर्वेश ने बताया कि सिंटू का एक भाई और बहन है। उनका दावा है कि सिंटू के सिर और शरीर पर चोट के निशान मिले हैं। आरोप है कि हत्या के बाद शव को फंदे पर लटका दिया गया है। इस बारे में थाना चांदनी बाग प्रभारी ने बताया कि मृतक के पैर पर चोट का निशान है। फिलहाल मामले में धारा 174 की कार्रवाई की है।पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद आगामी कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Naveen Dalal