जागरण संवाददाता, पानीपत : परिवहन विभाग ने रोडवेज महकमा में बदलाव करते हुए पानीपत में महाप्रबंधक (जीएम) पद पर लगाए गए व‌र्क्स मैनेजर (डब्ल्यूएम) से उनकी डीडीओ पावर वापस लेने के साथ ही उनका मूल पद पर ट्रांसफर कर दिया है। डीडीओ पावर वापस जाने के चार दिन बाद भी पानीपत डिपो के डब्ल्यूएम विकास नरवाल ने अपना पद नहीं संभाला है। रोडवेज में यह चर्चा का विषय बना हुआ है। प्रदेश में जिन वर्कशाप मैनेजर ने जीएम का अतिरिक्त चार्ज संभाल कर काम किया है, वे फिर से मूल ड्यूटी पर आने में अब रूचि नहीं दिखा रहे।

रोडवेज ने पानीपत, रेवाड़ी और पलवल के जीएम पद पर लगाए गए व‌र्क्स मैनेजर से डीडीओ पावर वापस ले ली है। इसी बीच अब पानीपत डिपो का नया महाप्रबंधक कुलदीप सिंह को लगाया गया है। यह करनाल में भी जीएम का पद संभाल रहे हैं और पानीपत का अतिरिक्त चार्ज सौंपा गया है। ऐसे मिली थी डीडीओ पावर

परिवहन विभाग ने लगभग एक साल पहले रोडवेज के कुछ व‌र्क्स मैनेजर को महाप्रबंधक पद का चार्ज देते हुए मौजूदा पे-स्केल पर ही डीडीओ पावर का अधिकार दिया था। इन अधिकारियों को जीएम का कार्यभार तो मिल गया था, लेकिन इनके मूल पद और पे-स्केल में कोई बदलाव नहीं किया गया था। एक तरह से यह माने है कि उस समय व‌र्क्स मैनेजर के लिए उनकी कार्यकुशलता के आधार पर दिया ईनाम था। यह ईनाम उनके मूल पद के लिए बड़ी बाधा बनती नजर आ रही है।

परिवहन विभाग की तरफ से जारी किए गए इन आदेशों के बाद डिपो में हलचल मची हुई है। आदेशों में जीएम का पदभार देख रहे इन अधिकारियों के स्थान पर इनके निकटतम लगे जिलों के जीएम को अतिरिक्त चार्ज दिया गया है। चार दिन की छुट्टी गए हैं डब्ल्यूएम

पानीपत डिपो के जीएम कुलदीप सिंह ने जागरण से बातचीत में बताया कि डीडीओ पावर वापस लेने के बाद अब जल्द ही डब्ल्यूएम चार्ज संभालेंगे। अभी डब्ल्यूएम चार दिन की छुट्टी पर गए हैं।

Edited By: Jagran