जागरण संवाददाता, पानीपत :

सफलता के लिए अपनी कार्ययोजना बनाएं। कार्ययोजना पर काम करें। जीवन में ज्यादातर लोग हतोत्साहित करते हैं। हमें यह नहीं देखना कि लोग क्या कहते हैं। हमें अपने गोल को देखना है। उसी पर काम करना है। हर सफल व्यक्ति के पीछे उसका समर्पण होता है। जब हम अपना सर्वश्रेष्ठ अपने काम को देते हैं तो हम सफल होते हैं।

इंस्टीट्यूट ऑफ प्रोफेशनल के निदेशक सीए आशीष कालड़ा ने एसडी विद्या मंदिर जूनियर विंग में रविवार को आयोजित कार्यक्रम में सीए के विद्यार्थियों को सफलता के गुर बताए। उन्होंने कहा कि प्रोफेशनल लाइफ से साथ-साथ बेहतरीन इंसान बनाना जरूरी है। जिस कार्य को आप स्वयं सुनते हैं उसी में अधिक सफलता है। जब तक कार्य की जिम्मेवारी नहीं लेंगे सफलता नहीं मिलेगी। जीवन एक गेम है। इस गेम में एक गोल पर निर्भर न रहकर गोल के बाद गोल करते चलें।

उन्होंने कहा कि उनका प्रयास है कि वे अपना बेहतरीन आने वाले सीए को बांटे। 18 वर्षो से दिल्ली में सीए के विद्यार्थियों की प्रशिक्षण दे रहे हैं। दिल्ली में आने वाले विद्यार्थियों का खर्च अधिक होता है। अब हम विद्यार्थियों के पास जाकर उन्हें प्रेरित करते हैं।

वर्ष 2014 में इंडिया वन रैंक प्राप्त सीए विजेंद्र गुप्ता ने भी सीए के विद्यार्थियों को प्रेरित किया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से नवीन गर्ग, विशाल नंदवानी, चिराग गर्ग, प्रशांत कपूर, प्रिंस गर्ग, गुलशन सेठी, शिवानी गर्ग मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस