कैथल, जागरण संवाददाता। पिछले एक सप्ताह से ठंड बढ़ने से गेहूं की फसल को फायदा है, लेकिन जन-जीवन प्रभावित हो रहा है। तापमान छह डिग्री से कम दर्ज किया जा रहा है। इस मौसम में गर्म खाद्य पदार्थों की डिमांड बढ़ रही है। 18 जनवरी को बरसात होने का अनुमान है। रविवार को भी ठंड से कोई राहत नहीं मिली। पूरा दिन आसमान में बादल छाए रहे। जबकि शीत लहर का प्रकोप जारी रहा।

बता दें कि पिछले सप्ताह ही ओलावृष्टि व बरसात हुई थी। जिसके बाद से सूर्य देव के दर्शन नहीं हुए हैं,। इससे लगातार ठंड बढ़ रही है। रविवार को अधिकतम तापमान 14 से 12 डिग्री पर पहुंच गया। ठंड से बचने के लिए लोग अलाव का सहारा ले रहे हैं। रविवार को अधिकतम तापमान 12 डिग्री तो न्यूनतम तापमान 5.08 डिग्री दर्ज किया गया। मौसम विभाग के पूर्वानुमान अभी 17 व 18 जनवरी को बरसात होने की संभावना बनी रहेगी। जबकि इसके बाद मौसम साफ रहने का अनुमान है। हालांकि सुबह व शाम के समय कोहरा छाए रहने की संभावना बनी रहेगी।

आगामी दिनों में बरसात की संभावना

चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय के अधीन कृषि विज्ञान केंद्र के मुख्य समन्वयक डा. रमेश चंद्र वर्मा ने बताया कि सोमवार व मंगलवार को बरसात होने की संभावना बनेगी। बरसात होने के बाद गेहूं की फसल को फायदा होगा। जबकि सरसों व सब्जियों की फसल हो नुकसान हो सकता है। सुबह व शाम के समय लगातार कोहरा छाए रहने का भी अनुमान है।

सर्दी से बचाव के लिए बरतें जरूरी सावधानियां : उपायुक्त

उपायुक्त प्रदीप दहिया ने जिला के लोगों को सर्दी के मौसम के मद्देनजर ठंड से बचाव के लिए जरूरी सावधानी बरतने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि जहां तक संभव हो, चारदीवारी के भीतर रहना चाहिए ताकि सर्द हवाओं से बचाव हो सके। दिनों दिन बढ़ रही सर्दी के मद्देनजर आमजन को स्वास्थ्य सुरक्षा के प्रति जागरूक रहना चाहिए। उपायुक्त ने कहा कि आम जन नियमित रूप से मौसम संबंधी जानकारी निरंतर लेते रहें। अपने आसपास रहने वाले अकेले व्यक्तियों, विशेषकर वृद्धजनों की देखरेख करें। घर से बाहर निकलते समय मफलर व टोपी का इस्तेमाल करें।

लोग ठंड में ठिठुरने को मजबूर

सीवन में पिछले कई दिनों से कड़ाके की सर्दी पड़ रही है। एक सप्ताह से सूर्य देवता के तो दर्शन भी नहीं हुए हैं। इसके कारण से लोग ठंड में ठिठुरने को मजबूर हैं। ठंड के कारण दिन भर दुकानों पर कोई ग्राहक नहीं आते हैं। दुकानदार भी या तो अलाव जला कर ठंड से बचते नजर आते हैं या फिर दुबककर दुकान में ही बैठे रहते हैं। ठंड की अधिकता के कारण बहुत से लोग तो घरों से ही नहीं निकल रहे हैं। विक्की आहुजा, साहिल आनन्द, नरेश मित्तल, राजेश रहेजा, आयुश रहेजा ने बताया कि कई दिनों से ठंड बहुत अधिक पड़ रही है। इस बार धुंध नहीं पड़ी है परंतु ठंड बहुत अधिक है।

बच्चों व बुजुर्गों को ठंड से बचा कर रखें

राज क्लीनिक के संचालक डा. गुलशन नागपाल ने बताया कि ठंड से बचाव आवश्यक है। बच्चों व बुजुर्गों को ठंड से बचा कर रखें। सुबह व शाम के समय ठंड बहुत अधिक होती है। ऐसे में सुबह व शाम के समय बच्चों व बुजुर्गों को बाहर न निकलने दें। अपने खान पान का ध्यान रखें। ठंडा व बासी भोजन न करें। उन्होंने कहा कि इस समय वायरल बुखार फैल रहा है।

Edited By: Rajesh Kumar