पानीपत, जागरण संवाददाता। तीन दिसंबर तक मौसम परिवर्तनशील परंतु खुश्क रहने की संभावना है। इस दौरान पश्चिमी विक्षोभ के आंशिक प्रभाव से 29 नवंबर तथा दो और तीन दिसंबर को बीच-बीच में आंशिक बादल तथा हवाओं में बदलाव संभावित है। इस दौरान हवाओं में बदलाव से वातावरण में नमी की मात्रा बढ़ने और दिन व रात्रि तापमान में हल्की गिरावट आने की उम्मीद है। सुबह के वक्त खासतौर पर ठंड का अहसास और बढ़ेगा। अगले दो दिनों के दौरान अधिकतम और न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री और कम हो जाएगा।

सोमवार को भी सुबह-शाम ठंडक और दिन के समय धूप खिलने से राहत का दौर बरकरार रहा। न्यूनतम तापमान 11 डिग्री सेल्सियस, जबकि अधिकतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हवा में नमी का स्तर 97 से 33 प्रतिशत रहा। मौसम विभाग का अनुमान है कि मंगलवार को भी आसमान साफ रहेगा। सुबह के समय धुंध होगी। अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान क्रमश: 28 और 10 डिग्री रहने का अनुमान है। सुबह शाम की सर्दी होने के कारण कंबल की मांग में इजाफा हुआ है। कंबल के स्टाक भी खाली हो चुके हैं। ताजा कंबल तैयार होकर बिक रहा है। अन्य प्रदेशों से भी कंबल की अच्छी मांग निकली है।

वायु गुणवत्ता का स्तर बिगड़ा

मौसम में बदलाव के चलते वायु गुणवत्ता का स्तर बिगड़ रहा है। एयर क्वालिटी इंडेक्स 188 अंक दर्ज किया गया। आने वाले दो दिनों में एयर क्वालिटी इंडेक्स और अधिक बिगड़ने की उम्मीद है।

तापमान में गिरावट जारी, देश के दक्षिण हिस्सों में बरसात का दौर

मौसमी बदलाव के सिलसिले के तहत अब अगले कुछ दिन में उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में न्यूनतम तापमान आठ से दस डिग्री सेल्सियस के दायरे में रहने की संभावना है। वहीं मध्य और पूर्वी भारत के कुछ हिस्सों सहित उत्तर पश्चिम भारत के अलग-अलग हिस्सों में न्यूनतम तापमान फिलहाल सामान्य से दो-तीन डिग्री सेल्सियस नीचे बना हुआ है।

मौसम विभाग के अनुसार न्यूनतम तापमान और शीत लहर के पूर्वानुमान के तहत पांच दिन के दौरान देश के अधिकांश हिस्सों में न्यूनतम तापमान में कोई अहम बदलाव नहीं होने की संभावना है। जबकि मौसम के ताजा हाल पर नजर डालें तो हाल मेंक देश के दक्षिण भाग में तमिलनाडु और केरल में अलग-अलग जगह पर भारी बारिश देखी गई। इसी प्रकार तटीय कर्नाटक, लक्षद्वीप, रायलसीमा और आंतरिक कर्नाटक में भी अलग-अलग जगह हल्की और मध्यम बारिश दर्ज की गई। फिलहाल एक चक्रवाती परिसंचरण निचले क्षोभमंडल स्तरों में बंगाल की खाड़ी के मध्य भागों पर स्थित नजर आ रहा है। मौसम की पूर्वी लहर के कारण अगले चार-पांच दिन के दौरान अंडमान व निकोबार द्वीप समूह, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु और लक्षद्वीप सहित आसपास के विभिन्न क्षेत्रों में अलग-थलग, छितरी हुई हल्की या मध्यम वर्षा की संभावना बनी है।

वहीं, स्थानीय स्तर पर करनाल और समीपवर्ती क्षेत्रों में भी तापमान का स्तर लगातार गिरावट की ओर है। फिलहाल क्षेत्र में न्यूनतम तापमान आठ-नौ डिग्री के आस बना हुआ है। जबकि औसतन अधिकतम तापमान का स्तर 25-26 डिग्री सेल्सियस के बीच कायम है। आद्रता का स्तर 50 से 60 प्रतिशत के बीच है। जबकि अगले कुछ दिन तक क्षेत्र में किसी बड़े मौसमी बदलाव के आसार नजर नहीं आ रहे हैं। जबकि न्यूनतम तापमान में गिरावट का सिलसिला इसी प्रकार जारी रह सकता है।

Edited By: Anurag Shukla

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट