पानीपत/जींद, [प्रदीप घोघडिय़ां]। निडानी गांव में तब्लीगी जमात से लौटे 27 वर्षीय युवक की करतूत से पूरे गांव के लोगों की जान हलक में आ गई है। निजामुद्दीन मरकज होकर आया मुस्लिम समुदाय का यह युवक कोरोना वायरस से संक्रमित मिला है। इससे पूरे गांव में खौफ है। निडानी गांव के जिस भी व्यक्ति से बात करो, उसका एक ही जवाब है कि अब तो भगवान ही रखवाला है, क्योंकि कोरोना पॉजिटिव युवक कई दिनों तक गांव में ही अलग-अलग लोगों के संपर्क में रहा है। 

बफर जोन घोषित

निडानी गांव के पांच किलोमीटर तक के क्षेत्र को बफर जोन घोषित किया है। गांव की तीन किलोमीटर की परिधि में आने-जाने पर पूर्णतया पाबंदी रहेगी। मंगलवार को दैनिक जागरण टीम ने निडानी गांव का दौरा कर कोरोना पॉजिटिव का केस सामने आने से पहले और बाद के हालातों को जाना। सोमवार से पहले तक लोग रूटीन में अपने कार्य करते थे। चाहे खेत से हरा चारा लाने का काम हो या पशुओं को तालाब पर पानी पिलाने का, किसी भी तरह का डर ग्रामीणों में नहीं था। हालांकि लॉकडाउन के नियमों का पालन तब भी किया जा रहा था लेकिन काम के सिलसिले में लोग घरों से बाहर निकल ही आते थे। 

 jind

गांव का माहौल ही बदल गया

सोमवार को जैसे ही तब्लीगी जमात से आए व्यक्ति को कोरोना वायरस मिला, उसके बाद गांव का पूरा माहौल ही बदल गया। गांव से निकलने वाले हर रास्ते पर पुलिस तैनात है। फिजिकल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। अब खेत में जाने का काम हो या पशुओं को पानी पिलाने, केवल एक व्यक्ति ही घर से निकलता है। 

गांव के हालात, मानो कोई रहता ही नहीं 

कोरोना पॉजिटिव का केस मिलते ही गांव में हालात ऐसे हो गए हैं, जैसे गांव में कोई रह ही नहीं रहा। ग्रामीणों के अनुसार निडानी के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है, जब पूरे गांव में इस तरह से सन्नाटा पसरा है। सभी घरों के गेट बंद है तो करियाणा समेत दूसरी दुकानों को भी आगामी आदेशों तक बंद करवा दिया गया है। जो भी व्यक्ति आपस में मिलता है, तो एक-दूसरे से दूर खड़े होकर बात करते हैं और बात केवल यही होती है कि अब क्या होगा। इस गांव का तो अब भगवान ही रखवाला है।

 jind

हर घंटे में हूटर के साथ गांव से गुजर रही पुलिस 

पूरे गांव में पसरे सन्नाटे को अगर कुछ तोड़ रहा है तो वह है पुलिस का हूटर, जो हर घंटे गांव में गश्त कर रही है। पुलिस की कई गाडिय़ां हर घंटे गांव का राउंड लगाती हैं और एकाध व्यक्ति घर से बाहर निकलता है तो उसे वापस घर में रहने के लिए कहा जाता है। ग्रामीणों के चेहरे उतरे हुए हैं। 

कुछ युवा मदद के लिए आ रहे आगे

जिला पार्षद अमित निडानी समेत कुछ युवा ग्रामीणों की मदद के लिए आगे भी आ रहे हैं। यह युवा ग्रामीणों को घर में रहने की अपील कर रहे हैं तो इमरजेंसी में कुछ सामान लाने या दूसरी जरूरत को पूरा करने का काम कर रहे हैं। अमित मलिक निडानी ने कहा कि गांव में सौहार्द को बनाकर रखा जा रहा है, ग्रामीणों को किसी प्रकार की दिक्कतें नहीं आने दी जाएंगी, बशर्तें लोग घरों में रहें। 

 jind

आवश्यक खाद्य सामग्री प्रशासन द्वारा करवाई जाएगी उपलब्ध : डीसी 

गांव में आवश्यक खाद्य सामग्री व वस्तुएं प्रशासन द्वारा ही उपलब्ध करवाई जाएंगी। गांव को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। आदेशों की अवेहलना करने वाले व्यक्ति के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। प्रशासन द्वारा मंगलवार को गांव में फ्लैग मार्च किया गया और लोगों से घरों में ही रहने की अपील की। 

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस