पानीपत, जेएनएन। FASTag लागू होने के बाद दूसरे दिन भी टोल पर जाम की स्थिति रही। 20 में से दो लेन खराब रही। पांच लेन से मैन्युअली टैक्स वसूल कर वाहनों को पास कराया गया। लेन में ज्यादा देर तक खड़े रहने पर एक कार चालक ने हंगामा कर दिया। बैरिकेड तोड़ भाग गया। टोल के कैमरे में सारा घटनाक्रम रिकॉर्ड हो गया। उधर, पेटीएम का सर्वर डाउन होने से उस काउंटर से फास्टैग नहीं बना। आइसीआइसीआइ के काउंटर पर ज्यादा भीड़ रही।    

टोल प्लाजा पर दोनों तरफ बैरियर लगा कर फास्टैग और बिना फास्टैग वाली लेन से वाहनों को पास कराया गया। टोलकर्मी 200 मीटर दूर खड़े होकर अलग-अलग लेन में भेजते रहे। फास्टैग वाहनों के लिए बनाए गए 14 लेन में बैरियर लगाए गए। फास्टैग देखने के बाद ही बैरियर हटा कर इन वाहनों को निर्धारित लेन में प्रवेश करने दिया गया। दिल्ली की तरफ से आने वाले बिना फास्टैग वाले वाहनों के लिए तीन और करनाल की तरफ से आने वाले वाहनों के लिए दो लेन निर्धारित की गई। दिल्ली की तरफ से आने वाले वाहनों को एनएचएआइ परिसर में बने अतिरिक्त टोल बैरियर से पास कराया गया। टोल प्लाजा से गुजरने वाले आधे से अधिक वाहन चालकों के पास फास्टैग न होने से बिना फास्टैग वाले वाहनों की लेन में दिनभर वाहनों की लंबी कतार लगी रही। फास्टैग वाले वाहन कुछ ही सेकेंड में टोल पार कर गए। 

एक ही काउंटर पर फास्टैग

टोल प्लाजा पर फास्टैग बना रही पेटीएम कंपनी का सर्वर सोमवार को डाउन रहा। दोपहर तक यहां फास्टैग नहीं बने। बैंक ऑफ बडौदा के काउंटर पर एक बजे तक सात फास्टैग बने। सिर्फ आइसीआइसीआइ के काउंटर पर ही फास्टैग बनवाने वालों की भीड़ नजर आई। 

बैरियर तोड़ निकल गया कार चालक

दिल्ली की तरफ से बिना फास्टैग वाली 20 नंबर लेन में 12 बजकर 27 मिनट पर अफरा-तफरी मच गई। इस लेन से एक सफेद रंग की सियाज कार चालक बैरियर तोड़ कर भाग निकला। बैरियर पर खड़े टोलकर्मी गुरमीत ने बैरियर अड़ाने का प्रयास किया, लेकिन कार की स्पीड अधिक होने के कारण वह उसे रोक नहीं पाया। टोलकर्मियों का दावा है कि पांच वाहन चालक बैरियर तोड़ कर भागे। इन वाहन चालकों पर कार्रवाई के लिए टोल प्लाजा पर लगे सीसीटीवी कैमरों में सभी की रिकॉर्डिंग की गई है। 

फास्टैग नहीं हो रहा स्कैन

वाहनों पर लगे फास्टैग को टोल प्लाजा के कैबिन पर लगा कैमरा पढ़ नहीं पा रहा है। सोमवार को टोलकर्मियों को अधिकतर वाहनों पर लगे फास्टैग को हाथ में मशीन लेकर स्कैन करना पड़ा। वाहन उसके बाद ही गुजरे। टोलकर्मियों ने बताया कि कई बार मशीन फास्टैग कार्ड को पढ़ नहीं पाती है। 

जुर्माना लगने पर सुधार की उम्मीद

बिना फास्टैग वाले वाहनों से अभी अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जा रहा है। टोल प्रबंधन जुर्माने के तौर पर बिना फास्टैग वाले वाहनों से दोगुना शुल्क वसूल सकती है। फास्टैग व्यवस्था में तभी सुधार दिखेगा।

पीएम और वित्त मंत्री को किया ट्वीट 

सेक्टर 18 निवासी कार मालिक अनिल ने फास्टैग बनाने के लिए एक दिसंबर को पेटीएम ने आवेदन किया था। पेटीएम की तरफ से बार-बार डिलीवरी तिथि बदली गई। सोमवार को कंपनी की तरफ से भेजे गए मैसेज में अब 22 दिसंबर को फास्टैग कार्ड डिलीवरी होने का दावा किया गया है। कंपनी के इस रवैये से परेशान होकर कार मालिक ने ट्वीट के जरिए पीएम नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री सीतारमण से इसकी शिकायत की है।  

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस