अंबाला, [दीपक बहल]। हरियाणा के पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश (उप्र) और पंजाब में होने वाले विधानसभा चुनावों में हरियाणा में शराब का अवैध उत्पादन कर बड़े पैमाने पर सप्लाई की आशंका होने पर पुलिस महानिदेशक पीके अग्रवाल ने सभी एसपी को अलर्ट कर दिया है। सभी पुलिस अधीक्षकों को लिखित आदेश जारी कर शराब माफिया की पहचान करने और विशेष रूप से एक्स्ट्रा न्यूट्रल अल्कोहल (ईएनए) की सप्लाई और बिक्री पर विशेष निगरानी के आदेश दिए हैं। इन आदेशों की प्रतिलिपि सीआइडी के एडीजीपी और आबकारी एवं कराधान विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव से सांझा की गई है ताकि इस को लेकर संयुक्त अभियान चले और सूचनाओं का आदान प्रदान तेजी से हो सके।


अनिल विज के कड़े तेवर देख डीजीपी ने जारी किए आदेश

प्रदेश के गृह मंत्री अनिल विज के कड़े तेवर देखते हुए डीजीपी शनिवार को यह आदेश जारी किए हैं। पिछले साल सोनीपत, पानीपत और फरीदाबाद में जहरीली शराब पीने से कई लोगों की मौत हो गई थी, जिसकी जांच विशेष जांच दल (एसआइटी) ने की थी। हालांकि एसआइटी की रिपोर्ट आज तक सार्वजनिक नहीं हो सकी, लेकिन जहरीली शराब से हुई मौतों का जिक्र डीजीपी ने अपने आदेशों में किया है। डीजीपी ने आदेशों में कहा कि हाल ही में हिमाचल प्रदेश के मंडी क्षेत्र में भी जहरीली शराब पीने से लोगों की मौत हुई। हरियाणा राज्य का काफी हिस्सा उक्त प्रदेशों के साथ लगता है। ऐसे में अवैध शराब की तस्करी से इनकार नहीं किया जा सकता। 

मध्य प्रदेश से गैरकानूनी ढंग से होती रही है ईएनए की तस्करी 

मध्य प्रदेश से ईएनए की बड़े पैमाने पर गैरकानूनी ढंग से तस्करी होती रही है। हाल ही में मध्य प्रदेश से चंडीगढ़ की शराब फैक्ट्री में ईएनए की सप्लाई की गई। इसी ईएनए से गैरकानूनी तरीके से शराब बनी और बिना परमिट के ही दूसरे राज्यों में तस्करी कर दी गई। हरियाणा पुलिस की तफ्तीश में इसका खुलासा हो चुका है। टैंकरों में ईएनए की सप्लाई की जाती है, जबकि कागजों में सैनिटाइजर दिखा दिया जाता था। ऐसे ही एक टैंकर को अंबाला पुलिस ने पकड़ा था। 

डीजीपी के आदेशों में पानीपत और सोनीपत का भी जिक्र

डीजीपी के आदेशों में हरियाणा के पानीपत, सोनीपत और फरीदाबाद में जहरीली शराब से हुई मौतों का जिक्र भी है। इस जहरीली शराब को बनाने में ईएनए का इस्तेमाल हुआ था, जबकि अंबाला से भी एक आरोपित को पुलिस गिरफ्तार करके अपने साथ ले गई थी। इसी मामले की जांच एसआइटी को सौंपी गई थी। यह मामला काफी सुर्खियों में रहा था, जबकि जांच में विभिन्न थाना क्षेत्रों में दर्ज हुई एफआइआर को भी शामिल किया गया था। इस जांच में गुजरात, बिहार, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, झारखंड और दिल्ली में शराब तस्करी का भंडाफोड़ हुआ था। राजस्व का भी करोड़ों का नुक़सान हुआ था। इसी को देखते डीजीपी ने उप्र और पंजाब में चुनावों को देखते हुए ईएनए तस्करी की आशंका जताते आदेश जारी किए हैं ‌।

Edited By: Rajesh Kumar