कैथल, जागरण संवाददाता। राजस्‍थान के शहर उदयपुर की घटना को लेकर विश्व हिंदू परिषद व बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने दूसरे दिन भी शहर में रोष प्रदर्शन किया। इस दौरान सुबह 11 बजे तक शहर के कई मुख्य बाजार भी बंद रहे। कार्यकर्ताओं ने आतंक की घटना पर रोष जताते हुए दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग की। कहा कि आतंकी घटनाओं को रोकने के लिए कड़े फैसले लेने होंगे, तभी आतंकवादियों पर लगाम कसी जा सकेगी। एक दिन पहले कार्यकर्ताओं ने पिहोवा चौक पर एकत्रित होकर आतंकवाद का पुतला जलाया था।

विश्व हिंदू परिषद के जिला मंत्री गोपाल भट्ट ने बताया कि उदयपुर की घटना को लेकर हिंदू समाज में भारी रोष है। इस रोष स्वरूप वीरवार को समाज के लोगों व व्यापारियों ने अपना रोष प्रकट किया। हिंदू समाज को जागृत करने के लिए कैथल के सभी बाजार उदयपुर की घटना के विरोध में सुबह 11:00 बजे तक बंद रखे गए। सम्पूर्ण हिंदू समाज व व्यापारियों का इस बंद को भरपूर समर्थन मिला और बंद शांतिपूर्ण रहा।

सभी दुकानदारों ने शटर बंद करके अपनी दुकानों के बाहर बैठकर नारेबाजी की व हत्यारों को फांसी की सजा की मांग की सभी व्यापारियों ने समस्त हिंदू युवाओं व समाज के लोगों से अपील की कि हिंदू समाज को जागृत होना होगा व एक होकर अपनी बात को सरकारों के सामने रखना होगा आए दिन बेकसूर हिंदू जैसे चंदन गुप्ता, कमलेश तिवारी, रोहित शर्मा और अब कन्हैया लाल को बेरहमी से मार दिया गया। इस तरह की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं, जिसे हिंदू समाज बर्दाश्त नहीं करेगा

बिट्टू मंगला, दौलत राम ग्रोवर, श्याम, चंद्रगुप्त गोयल, बजरंग दल के आशीष, कुशल, भवेश गुलाटी, सत्यवान, संजीव, शैंकी ग्रोवर, अभिषेक ने कहा कि इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए समाज के लोगों को एकजुट होना होगा। अभिषेक ने बताया कि इस घटना के विरोध में वीरवार को टेलर मार्केट, लोहा मंडी, होलसेल कपड़ा मार्केट एसोसिएशन, रेलवे बाजार, मेन बाजार, स्वर्णकार एसोसिएशन, सर्राफा बाजार एसोसिएशन, फोटोग्राफर एसोसिएशन व समस्त हिंदू समाज का सहयोग रहा।

Edited By: Anurag Shukla