पानीपत, जेएनएन। मुखीजा कॉलोनी में छत पर खेल रहे एक बच्चे ने पांच फीट ऊपर से गुजर रहे हाईवोल्टेज तार पर तार फेंक दिया। तारों के टकराने से ङ्क्षचगारी निकाली और बच्चा व उसका छोटा भाई झुलस गए। हादसे में मां व बहन बाल-बाल बचीं। 

घटना सुबह की है। वेल्डिंंग का काम करने वाले सलीम परिवार सहित मुखीजा कॉलोनी में किराये पर रहते हैं। सलीम सो रहे थे। बड़ी बेटी सानिया बैंक गई थी। छोटी बेटी फरीन, पत्नी इमराना छत पर थी। छठी कक्षा में पढऩे वाला बड़ा बेटा 12 वर्षीय जिशान और पहली कक्षा में पढ़ रहा 10 वर्षीय रेहान भी छत पर पढ़ रहे थे। वे दोनों किताबें छोड़ पहले साइकिल चलाने लगे और फिर खेलने लगे। अचानक रेहान ने 11 हजार वोल्ट तार पर बिजली का तार फेंका और तार अपनी ओर खींच लिय।

तारों में टकराव हुआ और धमाके के साथ चिंगारी निकली। इससे दोनों भाइयों के मुंह, पेट व हाथ जल गए। फरीन व इमराना ने भागकर जान बचाई। सलीम भी नींद से जगा और भागकर जान बचाई। आग की बिजली की फ‍िटिंग व अन्य सामान भी जल गया। मौके पर आठ मरला चौकी प्रभारी राजबीर ङ्क्षसह ने घर का शटर खोला। दोनों घायल बच्चों को पड़ोसी विनोद कुमार ने कार से बच्चों को सामान्य अस्पताल पहुंचाया और सलीम को 2000 रुपये दिए। वहां से घायलों को मेडिकल कॉलेज खानपुर रेफर कर दिया। दोनों बच्चों की जान खतरे से बाहर है। 

ये हुए हादसे

- 3 जनवरी को बलजीत नगर में छत पर कंघी कर रही शबाना को 33 केवी तार से करंट लगा। बच्ची झुलस गई और पांच दिन बाद पीजीआइ रोहतक में दम तोड़ दिया।

- 7 मार्च को काबड़ी रोड स्थित भारत नगर का सफाईकर्मी हरवीर मोबाइल कंपनी का बैनर लगाते समय हाईटेंशन तारों की चपेट में आ गया, जिससे उसकी मौत हो गई।

- 8 मार्च को गोयला खुर्द में छत पर खेल रही आर्शी को पास से गुजर रहे हाईटेंशन तार से जोरदार बिजली का झटका लगा, जिससे उसकी मौत हो गई।

-14 मार्च को भाजपा कार्यकर्ता टीटू हाईटेंशन तार की चपेट में आने से झुलस गए थे। उन्होंने रोहतक पीजीआइ में उपचार के दौरान 16 मार्च को दम तोड़ दिया। 

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस