जागरण संवाददाता, पानीपत : बस ट्रैवल्स संचालक और स्टाफ से हथियार के बल पर रंगदारी वसूलने के तीन आरोपितों को क्राइम इनवेस्टिगेशन एजेंसी (सीआइए-टू) ने छाजपुर के अड्डे से गिरफ्तार किया है।

आरोपित खोतपुरा गांव के पवन उर्फ खुंडिया, उग्राखेड़ी गांव के सूरजभान उर्फ भानू और करनाल के कोहंड के बिजेंद्र से रंगदारी से वसूले 3500 रुपये बरामद किए। तीनों आरोपितों को अदालत में पेश कर जेल भेज दिया गया। इस मामले में पुलिस आरोपित नूरवाला की गीता कालोनी के दीपक उर्फ दीपू को पहले ही गिरफ्तार कर वारदात में इस्तेमाल लाइसेंसी पिस्तौल, 11 रौंद, दो मोबाइल फोन और पांच हजार रुपये बरामद कर चुकी है। आरोपित मनोज बाबा के गैंग के बताए जा रहे हैं।

नशे की लत अय्याशी के लिए करते थे वारदात

सीआइए-टू प्रभारी इंस्पेक्टर वीरेंद्र ने बताया कि आरोपित पवन, सूरजभान व बिजेंद्र का आपराधिक रिकार्ड हैं। तीनों के खिलाफ झगड़े के छह मामले दर्ज हैं। पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि नशे का लत पूरी करने और अय्याशी के लिए नूरवाला के दीपक के साथ मिलकर साहिल ट्रैवल्स एजेंसी संचालक व स्टाफ से हथियार के बल पर वसूली करते थे। यह है मामला

उत्तर प्रदेश के जिला मेरठ के ललियान के ट्रैवल्स संचालक शाहनवाज ने 24 दिसंबर को किला थाने में दी शिकायत में बताया कि संजय चौक पानीपत में उसका साहिल ट्रैवल्स के नाम से कार्यालय है। उसका बस ट्रांसपोर्ट से संबंधित काम है। उसकी एक बस 20 दिसंबर को सुबह नूरवाला में सवारियों को लेने पहुंची, तभी बस स्टाफ सदस्यों पर कुछ बदमाशों ने पिस्तौल तानकर जोर दिया कि अपने मालिक को बुला। उससे उनकी बात भी हुई तो बदमाशों ने उसे डेरे पर मनोज बाबा से मिलने और मोटी रकम की मांग की। साथ ही कहा कि मनोज बाबा मुलाकात करना चाहता है। बदमाश हर रोज पिस्तौल व अन्य हथियार दिखा बस स्टाफ सदस्यों से वसूली करते हैं। नहीं देने पर उनके साथ मारपीट तक करते हैं। पुलिस ने उत्तर प्रदेश निवासी महबूब व सलीम (सगे भाई), दीपू व मनोज बाबा निवासी पानीपत तथा 13 अन्य बदमाशों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। एसपी शशांक कुमार सावन ने मामले की जांच सीआइए टू को सौंप दी थी।

Edited By: Jagran