जागरण संवाददाता, पानीपत : ददलाना गांव में सोनिया (24) की मौत के मामले में शुक्रवार को सामान्य अस्पताल में परिजनों का तांता लगा रहा। सैकड़ों की संख्या में मायके और ससुराल पक्ष के लोग मौजूद रहे। बहन की मौत के लिए भाइयों ने जीजा को जिम्मेदार ठहराया। हालांकि, बाद में पंचायत में बातचीत के बाद कानूनी कार्रवाई कराने से इन्कार कर दिया। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों के सुपुर्द कर दिया। परिजनों ने बताया कि रोहतक के दांभड़ गांव की सोनिया की लगभग छह माह पहले ददलाना के आसीन के साथ शादी हुई थी। आसीन रिफाइनरी में मजदूरी करता है। बृहस्पतिवार को वह काम पर चला गया तो पीछे से सोनिया ने पंखे में चुन्नी का फंदा लगा जान दे दी। देवरानी ने शव फंदे पर झूलता देख शोर मचाया। जांच अधिकारी हेड कांस्टेबल सत¨वद्र ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर आगामी कार्रवाई की जाएगी। मारपीट की आशंका से लोगों ने कराया शांत सामान्य अस्पताल पहुंचे दोनों पक्षों में शुक्रवार को बहस हो गई। ससुराल पक्ष के कुछ लोग मृतका के भाइयों को ललकारने लगे तो उनका गुस्सा फूट पड़ा। लोगों ने किसी तरह मामला शांत कराया। सोनिया की तीनों बेटियों की परवरिश की जिम्मेदारी ससुराल पक्ष ने ली।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप