जागरण संवाददाता, पानीपत : बत्तरा अस्पताल से लेकर ड्रेन नंबर एक तक 54 लाख रुपये से कंक्रीट का नाला बनाया जा रहा है। इस कार्य एंजल प्राइम माल से शुरू हो चुका है, लेकिन इस नाले का निर्माण कार्य शुरू होते ही सवालों के घेरे में आ गया है। यह नाला सड़क लेवल से दो फीट ऊंचा बनाया जा रहा है। जो बिल्कुल गलत है। इसमें नाले लेवल ठीक नहीं होने के कारण पानी निकासी समस्या पैदा होगी। वहीं वार्ड 10 के पार्षद रवींद्र भाटिया ने इस नाले की जांच करवाने के आश्वासन दिया है।

बता दें कि दिसंबर माह में विधायक प्रमोद विज ने इस नाले का उद्दाटन किया था। निर्माण कार्य शुरू होने से पहले पार्षद व जेई ने नाले में उपयोग होने वाली सामग्री की जांच की। यह नाला पूरे वार्ड के लिए काफी अहम है। इसी नाले से पास के तीन वार्डों को भी पानी निकासी संबंधित परेशानी से निजात मिलेगी। बत्तरा अस्पताल से ड्रेन नंबर एक तक नाला बनाने की प्रक्रिया पिछले एक साल से चल रही थी। जिसमें पार्षद रवींद्र भाटिया ने हाउस की बैठक में इस मामले को प्रमुखता से उठाया था। इसके बाद इसका टेंडर लगा और फिर वर्कआर्डर भी जारी हुआ। यह नाला बनाना कितना जरूरी था। कि विधायक प्रमोद विज ने इस नाले का उद्द्याटन किया था। अब इस नाले में कोई भ्रष्टाचार न हो सके। इसके लिए नगर निगम के अधिकारी खुद नजर रख रहे है और साथ पार्षद भी कर्मचारियों के साथ नाले का निरीक्षण कर रहे।

बारिश के समय यहां होता है जलभराव

बारिश के समय साईबाबा चौक पर जलभराव होता है। पानी निकासी की समस्या काफी पुरानी है। यह नाला सेक्टर 11-12 व सब्जी मंडी हाउस सिंह बोर्ड और सनौली रोड का अधिकतर एरिया को पानी निकासी की समस्या से निजात मिलेगी। यह नाला चार माह में बनकर तैयार हो जाएगा। इस नाले का विशेष बात यह है कि इस नाले का लेवल ऐसा बनाया गया है कि सारा पानी गंदा पानी ड्रेन में जाएगा।

जेई से बात हो गई है करवाई जाएगी जांच : पार्षद

भाजपा के जिला महामंत्री व वार्ड 10 के पार्षद रवींद्र भाटिया ने जागरण से बातचीत में कहा कि नाले का ऊंचा लेवल होने का मामला सामने आया है। इस बारे में जेई से बात की जा चुकी है। इस नाले की जांच करवाई जाएगी। नाले को बनवाने में किसी प्रकार गड़बड़ी नहीं होने दी जाएगी। मामले की ली जाएगी जानकारी : मेयर

नगर निगम मेयर अवनीत कौर ने जागरण से बातचीत में बताया कि नाले बनाने में अगर कोई खामी है तो पार्षद से बातकर मामले की जानकारी ली जाएगी और संबंधित जेई से पूरी जांच करवाई जाएगी।

Edited By: Jagran