जागरण न्यूज नेटवर्क, पानीपत : अंबाला में नौकरी कर वापस घर लौट रही सेक्टर सात निवासी 31 वर्षीय कविता अनेजा के ऊपर तेजाब फेंकने के प्रकरण की गुत्थी सुलझ गई है। 24 घंटे के भीतर ही पुलिस के हाथ बदमाशों के गिरेबान तक पहुंच चुके हैं। लंबी जद्दोजहद के बाद रात के समय पुलिस के हाथ बड़ा सुराग लग गया। कड़ी से कड़ी मिलती चली गई और पुलिस आरोपितों के प्रति पूरी तरह से आश्वस्त हो गई। इसके बाद उनकी धरपकड़ के लिए पुलिस ने छापामारी शुरू कर दी।

शनिवार को पुलिस इस पूरी गुत्थी से पर्दा उठा देगी। वहीं 32 सेक्टर चंडीगढ़ अस्पताल में महिला की हालात अभी भी गंभीर बनी हुई है। महिला कुछ भी बोलने की हालत में नहीं है। महिला ने शुक्रवार शाम को ड्यूटी मजिस्ट्रेट के सामने अपने बयान भी दर्ज करा दिए। हालांकि इससे पहले कई बार प्रयास किए गए लेकिन महिला बयान देने में नाकाम रही।

पुलिस पड़ताल में पता चला है कि बदमाश महिला के करीबी हैं। बता दें कि बृहस्पतिवार को हिसार की रहने वाली कविता अनेजा जोकि अंबाला सेक्टर सात मकान नंबर 249 में रह रही थी पर शाम करीब 5:36 पर उस समय तेजाब फेंका गया जब वह मकान नंबर 242 के पास पहुंची थी। महिला एमजीए हिसार सेक्टर की रहने वाली है। करीब दो साल पहले कविता की शादी तरनतारण पंजाब के रहने वाले गौरव से हुई थी। कविता तीन भाई बहनों में सबसे छोटी है।

अंबाला के नहीं हैं बदमाश

पुलिस तफ्तीश में इस बात का भी पता चला है कि तेजाब डालने वाले बदमाश अंबाला के निवासी नहीं हैं। आरोपितों ने इस घटना का अंजाम देने के लिए कई दिन पहले से ही तैयारी कर ली थी। यही कारण था कि वह पूरी तैयारी के साथ सेक्टर सात में पहुंचे थे। इसी कारण तेजाब गिराकर महज 14 सेकेंड में फरार भी हो गए थे। तफ्तीश में पुलिस के हाथ एक ऐसा सुराग लगा कि उसके बाद सारी कड़ियां आपस में जुड़ गई। तेजाब क्यों फेंका गया और किसने फेंका यह सारी स्थिति स्पष्ट हो गई। इसके बाद पुलिस ने काल ट्रे¨सग के जरिए इस बात की पुष्टि भी कर ली।

महिला थाने ट्रांसफर हुआ केस

वहीं इस मामले को पुलिस ने महिला थाने ट्रांसफर कर दिया है। क्योंकि पुलिस के सामने महिला कुछ भी बयान देने में परहेज कर रही है। मामला भी महिला से जुड़ा है और एसिड अटैक का है। इसीलिए बलदेव नगर थाने से इसे महिला थाने ट्रांसफर कर दिया गया है।

बिना नंबर की बाइक का खंगाला खाका

इससे पहले सुबह के समय पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे खंगाले लेकिन किसी भी सीसीटीवी कैमरे में न तो आरोपितों के चेहरे नजर आए न ही ज्यादा सीसीटीवी कैमरों में उनकी फुटेज आई। इसके बाद पुलिस ने बिना नंबर की बाइक की ट्रे¨सग शुरू की लेकिन शाम तक पुलिस के हाथ सिवाए निराशा के कुछ हाथ नहीं लगा।

----------------

कुछ सबूत मिले हैं। आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए टीमों को रवाना कर दिया गया है। उम्मीद है कि अगले 24 घंटे के भीतर हमें इस मामले में बड़ी कामयाबी मिलेगी।

अशोक कुमार, एसपी अंबाला।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस