जागरण संवाददाता, समालखा : हत्यारोपित जहांगीर उर्फ जाविद को पुलिस ने बंगाल के उत्तर दिनाजपुर जिला स्थित उसके गांव बेदबाड़ी से गिरफ्तार किया है। वह दस साल से फरार चल रहा था। अदालत में पेश कर उसे पूछताछ के लिए एक दिन की रिमांड पर लिया गया है। आरोपित ने एक तरफा प्यार में झट्टीपुर स्थित हैंडलूम फैक्ट्री के क्वार्टर में साथ रह रहे अपने सहकर्मी की नाबालिग बेटी की गला दबाकर हत्या कर दी थी और फरार हो गया था।

इंस्पेक्टर वीरेंद्र सिंह ने बताया कि जनवरी 2011 में नाबालिग की मां की शिकायत पर पुलिस ने आरोपित के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया था। महिला का आरोप था कि वह पति-पत्नी फैक्ट्री में काम करने गए थे। उसकी बेटी घर पर अकेली थी। जहांगीर उर्फ जाविद काफी दिनों से उसकी नाबालिग बेटी पर शादी करने का दबाव बना रहा था। स्वजन सहित उसके नहीं मानने से वह गुस्सा रखता था।

शिकायत के अनुसार आरोपित ने पहले उसकी बेटी के साथ मारपीट की। फिर गला दबाकर हत्या कर दी। शव शौचालय में रखकर बाहर से कुंडी लगाकर फरार हो गया। ठिकाना बदलने में माहिर होने से रखा इनाम

पुलिस से बचने के लिए आरोपित फरार होने के बाद से बार-बार ठिकाना बदल रहा था। पिछले साल पुलिस ने इसकी सूचना देने वाले को पांच हजार इनाम देने की घोषणा की थी। प्रारंभिक पूछताछ में जहांगीर ने अपना गुनाह कुबूल कर लिया है। उसने बताया कि वह नाबालिग से एकतरफा प्यार करता था। उससे शादी करना चाहता था, लेकिन वह और उसके स्वजन इन्कार कर रहे थे। गुस्से में उसने मौका मिलते ही चुनरी से गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी।

Edited By: Jagran