जागरण संवाददाता, पानीपत

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव एवं सीजेएम मोहित अग्रवाल शुक्रवार को सर्दी में ठिठुरते बुजुर्गो की सुध लेने सड़क पर उतरे। उन्होंने सिविल अस्पताल व रेलवे स्टेशन परिसर में रह रहे बुजुर्गो से उनकी परेशानी पूछी ।

सिविल अस्पताल में रह रहे मूल रूप से कानपुर उत्तर प्रदेश निवासी विद्याशंकर ने बताया कि उसने विवाह नहीं किया था। लगभग तीस वर्ष से पानीपत में रह रहा है। पहले एक फैक्ट्री में काम करता था। वृद्धा अवस्था में कठिन कार्य करना मुश्किल हुआ तो मालिक ने निकाल दिया। अब व जन सेवा दल कार्यालय में रहकर अपना पेट भर रहा है। वृद्ध आश्रम जाने के लिए उसने इन्कार कर दिया। अस्पताल के डॉ. अरविंद सभरवाल ने सीजेएम को बताया कि ऐसे बुजुर्गो का अस्पताल में भी खास ख्याल रखा जाता है। इसके बाद सीजेएम रेलवे स्टेशन पहुंचे। वहां गन्नौर निवासी वृद्धा ज्ञानो देवी से रेलवे स्टेशन पर रहने का कारण पूछा। उसकी दो बेटी रेखा व गीता भी आई हुई थी। वृद्धा ने बताया कि 12 साल पहले पति की मौत हो गई। पुत्र राजेंद्र उसके साथ मारपीट करता है। वृद्धा बेटियों ने कहा कि वह मां को अपने साथ लेकर जाएंगी।

रेलवे स्टेशन पर वर्षो से रह रही उत्तर प्रदेश की महिला को सीजेएम ने कुष्ठ आश्रम पहुंचाने के रेलवे अधिकारियों को निर्देश दिए। इस मौके पर स्टेशन अधीक्षक धीरज कपूर भी उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस