कुरुक्षेत्र, जागरण संवाददाता। स्वच्छ भारत मिशन के तहत प्रदेश के राजकीय प्राइमरी स्कूलों को भी शामिल किया गया है। इन स्कूलों के मुखिया और स्टाफ स्वच्छता का कितना पालन कर रहे है। टीम निरीक्षण कर इसका आंकलन करेगी। यह टीम एडिशनल चीफ सेक्रेटरी की ओर से बनाई गई है। इनके नेतृत्व में टीम काम करेंगी। इसको लेकर मौलिक शिक्षा निदेशालय ने प्रदेश भर के जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों को पत्र भेजकर कर सूचित कर दिया है।

राजकीय प्राइमरी स्कूलों में पांचवीं तक के बच्चे पढ़ाई कर रहे है। जिला कुरुक्षेत्र में प्राथमिक स्कूलों की संख्या 491 है। प्राथमिक स्कूलों में सफाई पर ध्यान कम दिया जाता है। सफाई को लेकर छोटे बच्चे होने के कारण वे जागरूक नहीं होते है। कई स्कूलों में मुखिया भी स्कूल परिसर की सफाई को लेकर ध्यान नहीं देते और स्वच्छता को लेकर गंभीर नहीं होते है।

अब स्वच्छ भारत मिशन के तहत स्कूलों की स्वच्छता को भी शामिल किया गया है। इसके अंतर्गत स्कूलों की स्वच्छता के मानक भी सर्वेक्षण काे प्रभावित करेंगे। इसलिए एडिशनल चीफ सेक्रेटरी को स्वच्छता चेक करने वाली टीम का हेड बनाया गया है। ये टीम स्वच्छ भारत मिशन के तहत काम करेगी।

स्कूल परिसर में हरियाली की स्थिति जांचेंगी टीम

औचक निरीक्षण के दौरान टीम स्कूल परिसर में हरियाली की स्थिति भी जांचेगी। शिक्षा विभाग अपने स्तर पर हर वर्ष स्कूल परिसर में पौधे भी रोपित करता है। इनकी देखरेख में स्कूल मुखिया को दी जाती है। स्कूल परिसर में हरियाली की स्थिति को भी टीम देखेगी।

मौलिक शिक्षा निदेशालय की ओर से जारी पत्र मिला है। जिसमें प्राथमिक स्कूलों की स्वच्छता की निरीक्षण को लेकर जानकारी दी गई है। पत्र को सभी स्कूलों में भेज दिया गया है।

सतनाम सिंह भट्टी, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी, कुरुक्षेत्र।

Edited By: Anurag Shukla