जींद, जागरण संवाददाता। बसों की समस्या को लेकर विद्यार्थियों ने राजकीय पीजी कालेज के बाहर एकत्रित होकर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान कुछ विद्यार्थियों को पुलिस ने हिरासत में लिया। इससे छात्रों में आक्रोश रहा। भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर मौजूद रहा। विद्यार्थी अक्षय, दीपक व सौम्या का कहना है कि जब से नया बस स्टैंड पांडू-पिंडारा में शिफ्ट हुआ है तब से विद्यार्थियों की समस्या बढ़ गई है।

विद्यार्थियों को पैदल ही नए बस स्टैंड से कालेज की ओर आना पड़ता है। वहीं शहर में यात्रियों की सुविधा के लिए जो सिटी बस लगाई गई है, उसमें विद्यार्थियों के पास मान्य नहीं हैं। इस कारण विद्यार्थियों पर आर्थिक बोझ बढ़ गया है। वहीं नरवाना, हांसी, कैथल, चंडीगढ़ व करनाल से जो बसें वापस आती हैं तो उन बसों को पटियाला चौक से होते हुए एसडी स्कूल व पुराना बस स्टैंड से नए बस स्टैंड तक जाने के निर्देश दिए गए हैं, लेकिन चालक व परिचालक बसों को कालेजों के सामने नहीं रोकते।

पहले भी विद्यार्थियों ने 12 मई को बसों की समस्या को लेकर डीसी कार्यालय पर प्रदर्शन किया था। इससे पहले आठ अप्रैल को जब विद्यार्थियों ने नए बस स्टैंड के गेट पर बसों की समस्या को गेट पर ताला जड़ा था ताे बसों की समस्या का समाधान करने की बजाय विद्यार्थियों को गिरफ्तार कर लिया गया था। पुलिस ने विद्यार्थियों पर बल प्रयोग भी किया था।

विद्यार्थियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया था। विद्यार्थियों का कहना है कि सिटी बस सर्विस में विद्यार्थियों के पास मान्य किए जाए। इसके अलावा जो बस नरवाना, कैथल, करनाल व हांसी से वापस आती हैं तो उन्हें शिक्षण संस्थानों के सामने रोकने के निर्देश दिए जाए ताकि विद्यार्थी बसों में बैठ कर नए बस स्टैंड पर जा सकें।

Edited By: Anurag Shukla