पानीपत, जेएनएन - शहर में स्मार्ट मीटर लगने का काम जोरों पर है। जल्द ही सेक्टर 13-17 में भी मीटर लगने शुरु हो जाएंगे। इसको लेकर विभाग की ओर से सर्वे कराया गया है। उक्त मीटरों के लगने से उपभोक्ता की जहां गलत मीटर रीडिंग संबंधित परेशानी खत्म होगी। वहीं बिजली निगम के ऊपर से भी काम का बोझ कम होगा। मैनुअल मीटर रीडिंग लेने की आवश्यकता नहीं रहेगी। साथ ही बिजली चोरी रूकने से लाइनलॉस कम होने के साथ आमदनी भी बढ़ेगी। उपभोक्‍ता जितने का रिचार्ज कराएंगे, उतनी बिजली ले पाएंगे। रिचार्ज खत्‍म होते ही बिजली कनेक्‍शन कट जाएगा। 

अनेक जगह पर चल रहा है काम 

स्मार्ट मीटर लगाने का काम इंसार बाजार, सनौली रोड एरिया, तहसील कैंप, माडल टाउन व उसके आस पास में चल रहा है। माडल टाउन एरिया व आस पास में चालीस हजार के करीब उपभोक्ताओं के यहां स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे। माडल टाउन में एक हजार से ज्यादा मीटर लगाए भी जा चुके है। विभागीय अधिकारियों की मानें तो स्मार्ट मीटर लगाने के काम में तेजी की जा रही है, ताकि जल्द से जल्द सभी जगह लगाए जा सके।

सनौली रोड सब अर्बन में बचे 4 हजार

सनौली रोड सब अर्बन सब डिवीजन के एसडीओ रामेंदर मलिक ने बताया कि उनके सब डिवीजन में 16 हजार के करीब उपभोक्ताओं के यहां स्मार्ट मीटर लगाए जा चुके हैं । अभी चार हजार के करीब उपभोक्ता के यहां लगने बाकी हैं । ज्यादातर सेक्टर 29 पार्ट वन व टू में हैं । जो सिंगल और थ्री फेस के कनेक्शन हैं । जल्द ही डिवीजन में सभी जगह स्मार्ट मीटर लग जाएंगे।

पंद्रह दिन में शुरू होगा काम

सब अर्बन सब डिवीजन के एसडीओ आदित्य कुंडू ने बताया कि फिलहाल माडल टाउन में स्मार्ट मीटर लगाने का काम चल रहा है। वहां का काम खत्म होते ही सेक्टर 13-17 व हाउसिंग बोर्ड कालोनी में भी ये मीटर लगाने का काम शुरु होगा। वहां 3500 के करीब उपभोक्ता है। उन्होंने बताया कि स्मार्ट मीटर लगाने के साथ खराब केबल तार व खंभे की समस्या को भी दूर किया जाएगा। ताकि उपभोक्ता को किसी तरह की दिक्कत न हो।

उपभोक्ता के पास दो विकल्‍प  

एसडीओ आदित्य कुंडू ने बताया कि स्मार्ट मीटर में काफी खासियत है। इसमें उपभोक्ता के लिए प्रीपेड व पोस्टपेड दोनों की आप्शन है। उपभोक्ता अपनी सुविधा के मुताबिक कोई भी आप्शन चुन सकता है। प्रीपेड में उपभोक्ता जितना रिचार्ज कराएगा, उतनी ही बिजली खर्च कर पाएगा। उक्त मीटर लगने पर उपभोक्ता की गलत रीडिंग व बिल संबंधित परेशानी दूर होगी।

निगम के लिए भी राहत 

एसडीओ ने बताया कि स्मार्ट मीटर लगने पर कर्मचारियों को भी काफी राहत मिलेगी। मीटर रीडिंग के लिए घर घर नहीं जाना पड़ेगा। वो स्टेशन पर ही बैठे सॉफ्टवेयर के जरिये प्रत्येक मीटर की रीडिंग ले सकेंगे। उपभोक्ता मीटर के साथ बिजली चोरी करने की नीयत से छेड़छाड़ नहीं कर पाएगा। साथ ही प्रीपेड प्लान लेने वाले उपभोक्ता पर बकाया बिल की सिरदर्दी भी खत्म होगी।

 

Edited By: Ravi Dhawan