जागरण संवाददाता, पानीपत: सेक्टर 25 स्थित नियति इंटरनेशनल और दिव्या इंटरप्राइजेज के मालिकों के बीच चल रहे दो करोड़ रुपये के लेनदेन का विवाद चल रहा है। इस मामले में नियति इंटरनेशनल के मालिक सुरेश गर्ग के पक्ष में हैंडलूम उत्पाद से जुड़ी शहर की छह एसोसिएशन के पदाधिकारी सोमवार को एसपी सुमित कुमार को मिलने पहुंचे। एसपी छुट्टी पर होने के कारण वे डीएसपी मुख्यालय सतीश कुमार वत्स से मिले और ज्ञापन सौंप कर मांग कि सुरेश गर्ग पर दर्ज धोखाधड़ी के मामले को रद किया जाए। आरोपित दिव्या इंटरप्राइजेज के पंकज गोयल व रविद्र गोयल को गिरफ्तार किया जाए। डीएसपी वत्स ने उन्हें आश्वासन दिया कि मामले की निष्पक्ष जांच की जाएगी।

इस मौके पर उद्यमी सुरेश गर्ग हरियाणा चैंबर्स ऑफ कामर्स के चेयरमैन विनोद खंडेलवाल, पानीपत डायर्स एसोसिएशन के प्रधान भीम सिंह राणा, हैंडलूम एक्सपोर्ट मैन्युफैक्चरिग एसोसिएशन के प्रधान रमेश वर्मा, इंडस्ट्रियल एसोसिएशन सेक्टर 29 पार्ट-1 के प्रधान श्रीभगवान अग्रवाल, उपप्रधान मदन लाल बठला, सचिव राम बुद्धिराजा, हरियाणा व्यापार मंडल के अध्यक्ष मलकराज गर्ग, वोवन फैब्रिक मैन्युफैक्चरिग एसोसिएशन के प्रधान सदानंद अग्रवाल, सचिव अनिल बंसल और चैंबर्स ऑफ कामर्स के उप प्रधान मोहन लाल गर्ग, अजय अग्रवाल और राम बुद्धिराजा मौजूद रहे। यह है मामला

नियति इंटरनेशनल के मालिक सुरेश गर्ग ने थाना चांदनी बाग पुलिस को शिकायत दी कि जुलाई 2018 में दिव्या इंटरप्राइजेज का मालिक पंकज गोयल व उसका बाई रविद्र गोयल उनके पास आए और बताया कि वे ऑनलाइन कंबल व बेडशीट का व्यापार करते हैं। दोनों ने उन्हें 93 लाख रुपये एंडवास देकर माल ले लिया। नवंबर 2018 में दोनों आरोपितों ने पेमेंट रोक ली। आरोपितों ने उसे पांच चेक दिये जो कि बाउंस हो गए। दोनों आरोपितों ने उससे दो करोड़ रुपये की धोखाधड़ी कर ली। दोनों के खिलाफ पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया। वहीं, उद्यमी दिव्या इंटरप्राइजेज के मालिक सेक्टर-12 के पंकज गोयल और रवींद्र गोयल ने कोर्ट में इस्तगासा दायर कर आरोप लगाया कि उद्यमी सुरेश गर्ग ने उनके साथ दो करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है। उद्यमी सुरेश गर्ग के खिलाफ भी धोखाधड़ी का मामला दर्ज है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप