जींद, जेएनएन। मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रबी की फसल के पंजीकरण की सात मार्च अंतिम तिथि है और अभी तक प्रदेश के 54.50 फीसदी किसानों ने ही अपनी रबी फसल का पंजीकरण करवाया।  6,88,484 किसानों में से 5,14,142 किसानों ने गेहूं व लगभग 2,96,632 किसानों ने सरसों की फसल का पंजीकरण करवाया है। फसल पंजीकरण के मामले में रेवाड़ी जिला सबसे आगे है तो फरीदाबाद सबसे पीछे हैं। रेवाड़ी के 75.95 फीसद यानि लगभग 49,953 किसानों ने पोर्टल पर पंजीकरण करवा लिया है।

फरीदाबाद जिले के 27.79 फीसदी यानि 2567 किसानों ने ही अपनी फसल का ब्यौरा दर्ज करवाया है। रेवाड़ी के बाद जिला महेंद्रगढ़ 72.73 फीसदी लगभग 49,953 किसानों का पंजीकरण हुआ है।

करनाल जिले में 72.57 फीसदी 45,539 किसानों का पंजीकरण, यमुनानगर में 69.87 फीसदी लगभग 35748, अंबाला में 68.06 फीसदी लगभग 28686, फतेहाबाद में 66.10 फीसदी लगभग 41457, झज्जर में 59.71 फीसदी लगभग 28511, कैथल में 57.68 फीसदी लगभग 32159, चरखी दादरी में 57.02 फीसदी लगभग 28593, गुरुग्राम में 56.89 फीसदी लगभग 17064, भिवानी में 56.81 फीसदी लगभग 64862, पलवल में 56.16 फीसदी लगभग 21411, पंचकूला में 46.38 फीसदी लगभग 6410, मेवात में 46.28 फीसदी लगभग 16233, सिरसा में 45.93 फीसदी लगभग 52481, हिसार में 41.52 फीसदी लगभग 48809, रोहतक में 39.67 फीसदी 15764, जींद में 37.21 फीसदी लगभग 27111 व पानीपत में 37.16 फीसदी लगभग 9857 किसानों की फसल का पंजीकरण पोर्टल पर हुआ है।

सात मार्च तक होगा फसल पंजीकरण

मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रबी की फसल के पंजीकरण की अंतिम तारीख सात मार्च है। अगर अंतिम तारीख को आगे नहीं बढ़ाया गया तो सात मार्च के बाद रबी की फसल का पंजीकरण नहीं हो पाएगा। जींद के कृषि उपनिदेशक डा. सुरेंद्र मलिक ने बताया कि फसलों को सरकार द्वारा निर्धारित समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण अनिवार्य है। जल्द से जल्द किसान अपनी फसल का रजिस्ट्रेशन करवाएं।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हरियाणा की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

यह भी पढ़ें: महिला सशक्तिकरण की अजब मिसाल, कोरोना काल में दिखाया ऐसा जज्‍बा, हर कोई कर रहा सलाम

यह भी पढ़ें: हरियाणा का एक गांव ऐसा भी, जहां हर युवा को है सेना में भर्ती का नशा

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप