जागरण संवाददाता, पानीपत : वंदे भारत मिशन के तहत विदेशों से लाए गए, होटलों में ठहरे लोगों को अपना खर्च खुद वहन करना होगा। इतना ही नहीं कोरोना के प्रति सैंपल 4500 रुपये भी इनसे वसूले जाएंगे। होटल खर्च से बचने के लिए दो लोगों ने खुद को सरकारी फैसिलिटी केंद्र में शिफ्ट करा लिया है।

सिविल सर्जन डॉ. संतलाल वर्मा ने बताया कि वंदे भारत मिशन के तहत मई में पानीपत के भी 21 लोगों को विदेशों से लाया गया है। ये सभी जकार्ता, सिडनी, सिगापुर, दुबई, जोहांसबर्ग, लंदन से लाए गए हैं। इनमें कुछ तो स्पेशल फ्लाइट से पहुंचे हैं। सभी को 14 दिन के क्वारंटाइन केंद्र में रहना होगा। इनमें 13 लोग ऐसे हैं, जिन्होंने होटलों में क्वारंटाइन की इच्छा जताई है। इनसे होटल का किराया, ब्रेकफास्ट से लेकर डिनर तक का खर्च भी वसूला जाएगा। सैंपलिग की सरकारी फीस भी इन्हें चुकानी होगी। होटल मालिक जिला प्रशासन द्वारा तय की दर के अनुसार ही किराया और खानपान का बिल वसूल सकेंगे।

21 और 22 मई को लौटे लोगों के सैंपल लिए जाने हैं। बाकी की रिपोर्ट नेगेटिव मिली है। रिपोर्ट नेगेटिव मिलने पर भी क्वारंटाइन पीरियड पूरा करना होगा। हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के एस्टेट ऑफिसर योगेश कुमार रंगा को जिला प्रशासन ने नोडल अधिकारी बनाया है। कोई दिक्कत आने पर ये उनसे संपर्क कर सकते हैं।

इन तारीखों में विदेश से लौटे लोग :

08 मई 04

13 मई 01

15 मई 02

19 मई 02

21 मई 08

22 मई 04 इन स्थानों पर हैं क्वारंटाइनंड :

सेक्टर-25 होटल डेज 09

मॉडल टाउन शगुन रेजिडेंसी 04

समालखा पाइट इंस्टीट्यूट 05

इसराना मेडिकल कॉलेज 03

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस