पानीपत/करनाल, जेएनएन। करीब 600 करोड़ की धोखाधड़ी के आरोपित नरेश सिंगला को रिमांड खत्म होने पर शुक्रवार को फिर अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे न्यायिक हिरासत भेज दिया गया। आरोपित से रिमांड के दौरान पुलिस ने आरोपित की प्रॉपर्टी के बारे में अहम जानकारी व दस्तावेज जुटाए हैं और अधिकतर प्रॉपर्टी को अटैच कर लिया गया है, जिससे अब रिकवरी की जाएगी। 

बता दें कि नरेश सिंगला ने जिला खाद्य एवं पूर्ति विभाग से संबंधित धोखाधड़ी मामले में नौ अक्टूबर को सरेंडर किया था, जिसके बाद उसे पुलिस ने अदालत में पेश करके एक सप्ताह के लिए रिमांड पर लिया था। इसके खत्म होने पर गत शुक्रवार को उसे अदालत में पेश कर फिर एक दिन के लिए रिमांड पर लिया गया था। इसके अगले दिन ही उसे अदालत में पेश कर छह दिन के रिमांड पर लिया था। शुक्रवार को यह रिमांड खत्म होने पर उसे फिर अदालत में पेश किया गया, जहां से न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

आरोपित को ले जा सकती है जींद व यमुनानगर पुलिस

नरेश ङ्क्षसगला पर जहां करनाल अनाज मंडी के ही करीब 111 आढ़तियों के करीब पौने 11 करोड़ की देनदारी बताई जा रही है, जिसके संबंध में वर्ष 2016 में पुलिस ने मामला दर्ज किया था तो वहीं आरोपित के खिलाफ यमुनानगर के रादौर व जींद जिला में भी धोखाधड़ी के मामले दर्ज है, जिसके चलते इन जिलों की पुलिस भी आरोपित को काबू करने के प्रयासों में रही। अब यह पुलिस आरोपित को कभी भी प्रोडक्शन वारंट पर ले जा सकती है, ताकि इन मामलों की भी जांच की जा सके। इन जिलों की पुलिस के अलावा सीबीआई जांच भी चल रही है। सीबीआई में वह सरेंडर करने से पहले ही अपने बयान दे चुका है।

आरोपित से मिली अहम जानकारी व दस्तावेज : संदीप

इक्नोमिक सैल के इंचार्ज संदीप कुमार का कहना है कि रिमांड के दौरान आरोपित नरेश सिंगला से उसकी प्रॉपर्टी से संबंधित अहम जानकारी व दस्तावेज मिले है, जिनकी फिलहाल जांच की जा रही है। उसे अब अदालत में पेश कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021