यमुनानगर, जेएनएन। हरियाणा रोडवेज को भले ही कोरोना वायरस के चलते पर्याप्त सवारी न मिल रही हो। परंतु रक्षा बंधन के दिन सोमवार को बहनों को किसी तरह की दिक्कत न आए इसके लिए यमुनानगर में 80 बसें चलाई जाएंगी। इनके अलावा प्राइवेट बसें भी अपनी सेवाएं देंगी। कई सालों के बाद ऐसा हाेगा जब रक्षा बंधन पर भाइयों को राखी बांधने जा रही बहनों काे रोडवेज बसों में टिकट लेना होगा। क्योंकि मुफ्त यात्रा को लेकर रोडवेज अधिकारियों के पास कोई आदेश नहीं आया था।

सुबह छह बजे से चलेंगी बस :

रक्षा बंधन के दिन रोडवेज बसें सुबह छह बजे से अपनी सेवाएं देंगी। रोडवेज ने अंबाला के लिए 35, करनाल व कुरुक्षेत्र के लिए 10-10, पानीपत के लिए चार, पंचकूला के लिए एक, नारायणगढ़ के लिए छह बसें लगाई हैं। यदि सवारी मिलती रही तो बसें रात को आठ बजे तक भी चलेंगी। यात्रा के दौरान कोविड-19 के नियमों का ध्यान रखने के आदेश दिए गए हैं। एक बस में केवल 30 से 35 सवारी ही एक सफर कर सकेंगी। अधिकारियों ने 10 वर्ष से कम व 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों से बसों में सफर न करने की अपील की है। इसके अलावा 16 सब इंस्पेक्टर की ड्यूटी शहरी व ग्रामीण क्षेत्र क बस अड्डों पर लगाई गई हैं। जो ये सुनिश्चित करेंगे कि कोई भी बस खाली न जाए। वहीं जिस रूट पर सवारी ज्यादा होगी वहां के लिए अतिरिक्त बसें चलवाने की व्यवस्था भी यही करेंगे।

कलानौर बार्डर तक जाएंगी 20 बसें :

उत्तर प्रदेश के जिला सहारनपुर की सीमा जिला से हुई है। रोजाना हजारों लोगों का एक दूसरे के यहां आना जाना है। रक्षा बंधन पर भी काफी संख्या में महिलाएं राखी बांधने के लिए भाइयों के घर आना जाना करती है। क्योंकि उत्तर प्रदेश में कोराेना वायरस के केस बहुत ज्यादा हैं। इसलिए रोडवेज की बसें सहारनपुर नहीं जाएंगी। परंतु बसें यात्रियों को कलानौर में सहारनपुर के बार्डर तक जरूर छोड़ कर आएंगी। बार्डर से उन्हें उत्तर प्रदेश की बसों में आगे का सफर करना होगा। कलानौर बार्डर तक जाने के लिए 20 बसें लगाई गई हैं।

20 मिनट के अंतराल पर चलेंगी बसें : लेखराज

रोडवेज जीएम लेखराज ने बताया कि ऐसी व्यवस्था की गई है कि प्रत्येक रूट पर 20 मिनट के अंतराल पर बस चलती रहे। इसके अलावा दूसरे जिलों से भी रोडवेज की बसें यहां आना जाना करेंगी। महिलाओं की मुफ्त यात्रा को लेकर फिलहाल कोई आदेश नहीं आया है। सभी बसों चलाने से पहले अच्छी तरह से सैनिटाइज किया जाएगा।

बाजार बंद रहने से उठानी पड़ी परेशानी

रक्षा बंधन से एक दिन पहले रविवार को बाजार बंद रहने से लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। प्रशासन के आदेशानुसार यमुनानगर शहर को छोड़ रविवार को पूरे जिले का बाजार बंद रहता है। इसलिए महिलाएं एक दिन पहले बाजारों से रक्षा बंधन के लिए राखियां व दूसरा सामान नहीं खरीद पाएं। यहां तक की मिठाइयों की कुछ दुकानें छोड़ बाकी बंद रही। इसलिए बाजारों में किसी तरह की रौनक नहीं थी। जबकि दुकानदार मांग कर रहे थे कि त्योहार के चलते उन्हें रविवार को दुकानें खोलने की अनुमति दी जाए परंतु ऐसा नहीं हुआ। बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा।

Posted By: Manoj Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस