थर्मल, (पानीपत), [सुनील मराठा]। Haryana Rajya Sabha Polls 2022: हरियाणा राज्‍य सभा चुनाव के रिजल्‍ट आ गए हैं। भाजपा के कृष्‍ण लाल पंवार और निर्दलीय प्रत्‍याशी कार्तिकेय शर्मा ने जीत दर्ज की। जबकि कांग्रेस के अजय माकन रिकाउंटिंग में हार गए। सीएम मनोहर लाल ने भाजपा के प्रत्‍याशी कृष्‍ण लाल पंवार पर भरोसा जताया था। पिछली सरकार में मंत्री रहने के बाद पंवार 2019 में विधानसभा चुनाव हार गए थे। इसके बाद भी सीएम ने उन पर विश्‍वास बनाए रखा और पंवार ने बूथ से लेकर चौपाल तक भाजपा के साथ लोगों को जोड़ने का काम किया। इसकी का परिणाम रहा कि सीएम ने उन्‍हें राज्‍यसभा सदस्‍य का प्रत्‍याशी बनाया था।

कृष्ण लाल पंवार भाजपा से राज्‍यसभा चुने गए। वह सक्रिय रूप से सामाजिक सेवाओं में भाग लेते हैं। मडलौडा से अपनी मैट्रिक पूरी करने के बाद, उन्होंने जयपुर से बायलर कंट्रोलर में डिप्लोमा पूरा किया। इसके बाद उन्हें पानीपत थर्मल पावर प्लांट में सरकारी नौकरी मिल गई थी। बाद में वह नौकरी से त्यागपत्र देकर राजनीति में शामिल हो गए और आईएनएलडी के सक्रिय सदस्य बने।

निजी जीवन

पूरा नाम: कृष्ण लाल पंवार

जन्म तिथि: 01 जनवरी 1958

जन्म स्थान: मडलौडा

पार्टी का नाम: भाजपा

शिक्षा: 10वीं पास, बायलर कंट्रोलर में डिप्लोमा

पिता का नाम: लख्मी चंद पंवार

पत्‍नी: होशियारी देवी

पत्‍नी का व्यवसाय: सेवानिवृत्त उप अधीक्षक शिक्षा विभाग

संतान: बड़ा बेटा अनिल पंवार, छोटा बेटा सुनील पंवार (नहीं रहे) व 1 पुत्री

निवास: हाउसिंग बोर्ड कालोनी, मतलौडा

सामाजिक सेवा में भी आगे

उन्होंने विभिन्न सामाजिक सेवा में सक्रिय रूप से भाग लिया। उनका पसंदीदा मनोरंजन खबरों को सुनना है। वह हरियाणा सर्किल में हरियाणा ओलंपिक संघ के अध्यक्ष और कबड्डी एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं।

राजनीतिक घटनाक्रम

2014

वह इसराना विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के टिकट पर हरियाणा विधान सभा के लिए फिर से चुने गए थे। उन्होंने कांग्रेस के बलबीर सिंह को हराया। पार्टी ने उन्हें परिवहन, आवास और जेल मंत्री बनाया।

2009

इस बार उन्होंने इनेलो पार्टी के टिकट पर इसराना विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा और प्रतिद्वंदी उम्मीदवार बलबीर को हराकर हरियाणा विधानसभा के लिए चुने गए। विधायक बनने के बाद उन्हें हाउसिंग बोर्ड का चेयरमैन बनाया गया।

2005

वह आईएनएलडी की टिकट पर असंध से विधानसभा चुनाव लड़े। लेकिन कांग्रेस पार्टी के राज रानी पूनम से हार गए।

1996

वह असंध से हरियाणा विधानसभा में फिर से चुने गए थे और लगातार दूसरी बार विधायक बने।

1991

कृष्ण लाल पंवार ने असंध निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा और विधानसभा चुनाव जीतकर विधायक बने।

Edited By: Anurag Shukla