रामकुमार कौशिक, पानीपत:

बोर्ड की कक्षाओं के परीक्षा परिणामों में अपेक्षित सुधार के लिए विभाग के वरिष्ठ अधिकारी गंभीर हैं। 20 जनवरी को परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम में पीएम ने इस बारे एक योजना प्रस्तुति की। अब शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव और महानिदेशक सेकेंडरी शिक्षा भी बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम को उन्नत करने के लिए सीधे अधिकारियों और स्कूल मुखिया से संवाद करेंगे। कुरुक्षेत्र में 31 जनवरी को एक प्रदेश स्तरीय कार्यक्रम रखा है। इस कार्यक्रम में विभाग के अधिकारियों के अतिरिक्त उन स्कूल इंचार्जों को बुलाया है, जिनके यहां पिछले साल बोर्ड परीक्षा का परिणाम काफी कम रहा था।

हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी की तरफ से मार्च के प्रथम सप्ताह में बोर्ड परीक्षा आयोजित की जाएगी। निजी स्कूलों को टक्कर देने और परीक्षा परिणाम में अपेक्षित सुधार के लिए शिक्षा विभाग ने कवायद शुरू की है। इसी कड़ी में शैक्षणिक वर्ष 2019-20 की बोर्ड परीक्षाओं में 25 प्रतिशत से कम परिणाम वाले और ऐसे स्कूल जहां विद्यार्थियों की संख्या 100 या अधिक थी और बोर्ड परीक्षा परिणाम 40 फीसद से कम रहा, उसे चिह्नित किया है। उन स्कूलों में रिजल्ट कैसे बेहतर हो इसे लेकर उन स्कूल इंचार्जों से शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव और महानिदेशक सेकेंडरी शिक्षा सीधे संवाद करेंगे। ये लेंगे कार्यक्रम में भाग

बोर्ड परीक्षाओं में सुधार को लेकर राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय कुरुक्षेत्र में 31 जनवरी को सुबह 11 बजे प्रदेश स्तरीय कार्यक्रम रखा गया है। इसमें कम प्रतिशत परीक्षा परिणाम वाले स्कूल मुखिया के साथ साथ डीईओ, डीईईओ, प्रधानाचार्य डाईट, डीपीसी, डिप्टी डीईओ, बीईओ, एपीसी (प्लानिग) को भी बुलाया गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस