पानीपत, जेएनएन। प्रशासन और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने प्रदूषण फैलाने वाली फैक्ट्रियों पर कार्रवाई तेज कर दी है। गत लंबे समय से प्रदूषण फैला रही 27 फैक्ट्रियों का सर्वे गत सप्ताह किया गया। इनमें से 17 फैक्ट्रियों को कारण बताओ नोटिस दिए हैं। सात फैक्ट्रियों को सील किया है। 742 वाहनों के प्रदूषण के चालान किए गए। प्रशासन ने इसके साथ लोगों का भी सहयोग मांगा है। 

ङ्क्षसगल यूज पोलिथिन, थर्माकोल और औद्योगिक इकाइयों में घटिया ईंधन के प्रयोग करने से पर्यावरण प्रदूषण लगातार बढ़ रहा है। ऐसे में प्रशासन ने गत सप्ताह सब्जी मंडी में छापामारी की। इसके बाद औद्योगिक इकाइयों पर सख्ती बरती। 

डीसी सुमेधा कटारिया ने बताया कि स्वच्छ भारत अभियान का हर व्यक्ति को हिस्सा बनना चाहिए। उनको पर्यावरण प्रदूषण से आने वाले खतरों को पहचानना होगा। 

प्रदूषण से अविकसित बच्चे हो रहे पैदा 

डीसी ने बताया कि 90 प्रतिशत बीमारी दूषित हवा व पानी के कारण होती हैं। यही कारण है कि आज अविकसित बच्चे जन्म ले रहें है। टीबी, कैंसर, सांस रोग और त्वचा रोग भी तेजी से बढ़ रहा है। एनसीआर क्षेत्र में जीवन को सुरक्षित बनाना है तो जल और वायु को शुद्ध बनाना होगा। उद्यमियों को उच्च कोटी का ईंधन प्रयोग में लाना होगा। 

Posted By: Anurag Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप