पानीपत, जेएनएन। पानीपत में एसबीआइ एटीएम लूटने आए बदमाशों से भिड़ जाने वाले दो भाइयों के हौसले की हर कोई तारीफ कर रहा है। एसपी सुमित कुमार ने भी उरलाना कलां के इन दोनों भाइयों को अपने कार्यालय में पांच-पांच हजार रुपये देकर सम्मानित किया। दरअसल इन्होंने गांव में एटीएम लूटने आए बदमाशों पर पत्थर बरसा दिए थे, जिसके बाद बदमाश एटीएम को छोड़कर भाग गए। इससे एटीएम में मौजूद 24 लाख रुपये बच गए।

उरलाना कलां गांव में एसबीआइ की एटीएम है। रात करीब डेढ़ बजे कुछ आवाज सुनाई दी। एटीएम से महज 10 मीटर की दूरी पर स्थित घर के दरवाजे से महिला सुदेश ने झांक कर देखा कि बदमाश एटीएम का शटर काट रहे थे। उसने बड़े बेटे संदीप को जगाया। संदीप ने छोटे भाई दीपक को उठाया। संदीप ने पुलिस को 100 नंबर पर कॉल की। इसके बाद संदीप और दीपक छत पर चढ़ गए। छत से ही बदमाशों पर ईंट व रोड़े बरसाने लगे। इतने में लुटेरों की तरफ से आवाज आई कि गोली मार देंगे। दोनों भाई धमकी से नहीं डरे। इतने में बदमाशों ने

फायरिंग शुरू कर दी। दीपक ने साहस कर ताऊ के बेटे को आवाज लगा दी। इसी बीच पुलिस की गाड़ी भी पहुंच गई। 

कहां गया एक लुटेरा

सुदेश के अनुसार, पुलिस बिना हथियार के पहुंची थी। एक लुटेरा पकड़ लिया गया था, लेकिन बाद में उसे छोड़ दिया। वहीं ग्रामीणों में रोष है। 

पुलिस सुरक्षा क्यों नहीं 

इन भाइयों को सम्मान तो मिल गया लेकिन पुलिस सुरक्षा को लेकर गंभीरता क्यों नहीं बरती जा रही। बदमाश इन्हें पहचान चुके हैं। गांव वालों को भी डर सता रहा है कि कोई अनहोनी न हो जाए। घटना के 40 घंटे बाद न लुटेरे पकड़े गए और न ही सुरक्षा मुहैया कराई गई। संदीप का कहना है कि एसपी ने उन्हें जरूरत पडऩे पर सुरक्षा देने का आश्वासन दिया है।

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस