पानीपत, जेएनएन। डिटेक्टिव स्टाफ और सीआइए टू पुलिस ने मुठभेड़ के बाद रंगदारी की नीयत से गोली मारने वाले गैंग के एक सदस्य को गिरफ्तार कर लिया। आरोपित के घुटने पर एक गोली लगी है। उसे सिविल अस्पताल में दाखिल कराया गया, जहां से उसे मेडिकल कॉलेज खानपुर रेफर कर दिया गया। वहीं उसके दो साथी पुलिस को चकमा देकर फरार हो गए। पुलिस ने दावा किया कि इसी गैंग ने इंडियन टूर एंड ट्रैवल्स के मालिक सुनील कुमार और क्रिकेट खेल रहे एक युवक को गोली मारकर लूट की थी। 

सीआइए-टू के प्रभारी इंस्पेक्टर दीपक कुमार ने बताया कि पुलिस को शुक्रवार शाम को सूचना मिली कि सिटी थाना के साथ लगते इंडियन टूर एंड ट्रैवल्स के मालिक सुनील कुमार और अशोक विहार कालोनी के राशिद को गोली मारने के आरोपित बरसत रोड पर हैं। डिटेक्टिव और सीआइए-टू की संयुक्त टीम ने दबिश दी तो तीन युवक निजामपुर पुलिया पर पैदल अंसल की तरफ जाते दिखाई दिए। पुलिस की गाड़ी देखते ही बदमाशों ने फायङ्क्षरग शुरू कर दी। सरकारी गाड़ी में आगे बैठा पुलिसकर्मी बाल-बाल बचा। गोली शीशा तोड़ते हुए छत में जा लगी। पुलिसकर्मियों ने बदमाशों को सरेंडर करने के लिए कहा। बदमाशों ने इसके बाद भी 3-4 राउंड फायर किए। पुलिस की जवाबी कार्रवाई में एक बदमाश के घुटने में गोली लग गई। पुलिस ने उसे दबोच लिया, बाकी दो बदमाश फरार हो गए। आरोपित ने अपनी पहचान पंकज निवासी उचाना हाल निवासी देसराज कॉलोनी के रूप में बताई।

किला पर मांगने गया था रंगदारी, नरवाना की गैंग से तार

प्राथमिक जांच पड़ताल में पता चला है कि आरोपित पंकज नरवाना की किसी गैंग से जुड़ा हुआ है। वह शाम सात बजे डाबर कालोनी निवासी मंजीत से राजनगर स्थित उसके कार्यालय पर रंगदारी मांगने गया था। उसके साथी आशू और बारू को जान से मारने की धमकी देकर निकला था। आरोपितों की पहचान विकास उर्फ विक्की, उसके भाई अंकुर निवासी देसराज कॉलोनी,  अंकुर निवासी गांव सिवाह और पंकज निवासी उचाना के रूप में हुई। किला थाना पुलिस ने शुक्रवार शाम को आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस