जागरण संवाददाता, पानीपत

सेक्टर 29 क्षेत्र की भगत सिंह एनक्लेव निवासी छात्रा पीहू ने पड़ोसी द्वारा प्लॉट में डाले जा रहे गोबर के ढेर व पशुओं की फोटो ऐप पर अपलोड कर दी। अब नगर निगम के कर्मचारी परेशान हैं कि निजी प्रॉपर्टी में से गोबर कैसे हटाएं। हालांकि निगम के अधिकारी खाली प्लॉट में गंदगी डालने पर नोटिस दे सकते हैं। गंदगी डालने बंद नहीं की तो केस दर्ज करा सकते हैं।

भगत सिंह एनक्लेव निवासी संजीव सिंह ने बताया कि उसके घर के सामने मामचंद का परिवार रहता है। मामचंद ने दो भैंस पाल रखी हैं। इनका गोबर अपने खाली प्लॉट में डालता है। कालोनी के मुख्य मार्ग से सटाकर हौदी बनवाई हुई हैं, जिनमें पानी भरा रहता है। गोबर व हौदी के पानी से गंदगी व जलजनित बीमारियों का खतरा है। कई बार विरोध भी जताया गया। पड़ोसी द्वारा नहीं मानने पर 13 वर्षीया बेटी संजीवनी उर्फ पीहू ने तीन दिन पहले मोबाइल फोन में स्वच्छ भारत मिशन के स्वच्छता एप को डाउनलोड किया। गोबर व पशुओं की फोटो एप पर अपलोड कर दी। फोटो अपलोड होते ही एप का संचालन करने वाली यूनिट ने नगर निगम पानीपत को सूचना दी। रविवार को सुपरवाइजर बॉबी कर्मचारियों के साथ मौके पर पहुंचा। निजी प्लॉट में गोबर का ढेर देख वह दुविधा में पड़ गया। उसने निजी प्लॉट से गोबर न हटवाकर, सेनेट्री इंस्पेक्टर साहब सिंह को रिपोर्ट दी है।

इधर, कालोनी वासी जसवंत, राजबीर, दिलबाग, रीटा, पिंकी, विद्या, नीलम व राकेश मलिक ने कालोनी के खाली प्लॉट में पड़े गोबर को हटवाने की मांग नगर निगम से की है।

वर्जन :

निजी प्लॉट की गंदगी को हटवाने के लिए नोटिस देने प्रावधान है। स्वच्छ ऐप संचालन करने वाली टीम ने भी फोटो व रिपोर्ट मांगी है। मिशन के अधिकारी व नगर निगम कमिश्नर ही इस पर निर्णय लेंगे।

साहब सिंह, सेनेट्री इंस्पेक्टर-नगर निगम

मेरा प्लॉट है, मेरी मर्जी : सुपरवाइजर बॉबी ने बताया कि प्लॉट मालिक मामचंद ने जवाब दिया कि यह मेरा प्लॉट है। जब मर्जी होगी, तब गोबर हटा लूंगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस