पानीपत, जागरण संवाददाता: शहर की बिशन स्वरूप कालोनी में एफडी (फिक्स डिपोजिट) और आरडी (सावधि जमा) खोलकर छह साल में पैसे दोगुने करने का झांसा देकर 12 लोगों से 1 करोड़ 66 लाख 60 हजार 383 रुपये की धोखाधड़ी कर ली। पुलिस ने आरोपित कंपनी के मालिक, उसकी पत्नी व दो बेटों के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है।

उत्तर प्रदेश के शामली के शिव कालोनी निवासी लीलूराम ने मुख्यमंत्री को दी शिकायत में बताया कि वह पानीपत में फेरी लगाकर कपड़ा बेचने का काम करता था। उसने यहां कुलदीप नगर में किराये पर कमरा लिया हुआ था। एक दिन उसकी मुलाकात सर्वोत्तम विकास मल्टी स्टेट हाउसिंग को-आपरेटिव सोसायटी लिमिटेड, बिशन स्वरूप कालोनी पानीपत के पदाधिकारियों से हुई।

कंपनी का सीएमडी मलूक सिंह उप्पल, उसका बेटा एमडी गुरप्रीत सिंह उप्पल व हरप्रीत सिंह उप्पल और पत्नी भूपिंद्र कौर निवासी लहारका रोड, अमृतसर, पंजाब थे। जनवरी 2010 को उपरोक्त आरोपितों ने आरडी व एफडी खाते खोलने की बात कही। उन्होंने बताया था कि उनकी कंपनी सरकार की ओर से अधिकृत है और उन्हें कागजात दिखाकर विश्वास में लिया। इसके बाद प्रलोभन दिया कि आप अपना और अपने रिश्तेदारों व दोस्तों के खाते खुलवाओ और छह साल में रुपये दोगुना ले जाओ। यह पालिसी सरकार की है और साथ में जीवन बीमा श्रीराम बीमा कंपनी की पालिसी भी देते थे।

लीलूराम ने बताया कि इसके बाद उसने खुद के और अपने जानकारों के करोड़ों रुपये इनके पास कंपनी में जमा करवा दिए। जब पैसा वापस देने का समय आया तो उक्त आरोपित कार्यालय बंद कर गए। इसके बाद पीड़ित लोग उनके मुख्य कार्यालय अमृतसर गए तो वहां भी कार्यालय बंद मिला। आरोपितों से फोन पर संपर्क किया गया तो उन्होंने पीड़ितों को जान से मारने की धमकी दी।

आरोपित मलूक सिंह ने बड़े नेताओं से साठ-गांठ होना बताया। डीएसपी मुख्यालय धर्मबीर सिंह ने मामले की जांच की। इसके बाद थाना शहर पुलिस ने मलूक सिंह सहित चोरों आरोपितों के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज कर लिया है।

आरोपितों के खिलाफ कुरुक्षेत्र और करनाल में भी धोखाधड़ी के मामले दर्ज पीड़ित रामकुमार ने बताया कि चारों आरोपितों के खिलाफ कुरुक्षेत्र के थानेसर के कृष्णानगर थाने और करनाल में थाना शहर में धोखाधड़ी के मामले दर्ज हैं। उक्त मामले में मलूक सिंह करनाल जेल में बंद हैं। अन्य आरोपित बाहर घूम रहे हैं।

इनके साथ हुई धोखाधड़ी

  • राजकुमार 38 लाख 90 हजार 524, निवासी गांव निजामपुर (पानीपत)
  • शंकर 6 लाख 38 हजार 418, निवासी गांव बाबरपुर (पानीपत)
  • नीरज 15 लाख 33 हजार 116, निवासी तहसील कैंप (पानीपत)
  • बीना 13 लाख 16 हजार, निवासी घरौंडा (करनाल)
  • सीमा देवी 12 लाख 19 हजार 840, निवासी पानीपत
  • सुनीता 2 लाख 51 हजार 246, निवासी गांव निंबरी (पानीपत)
  • प्रमिला देवी 2 लाख 97 हजार 560, निवासी गांव बबैल( पानीपत)
  • चरण सिंह 42 लाख 60 हजार 780, निवासी सैनी कालोनी (पानीपत)
  • धर्मबीर 11 लाख 55 हजार 524, निवासी देसराज कालोनी (पानीपत)
  • सुल्तान 13 लाख 22 हजार 704, निवासी गांव अटावला (पानीपत)
  • रामसिंह 5 लाख 80 हजार 262, निवासी गांव महमदपुर (पानीपत)
  • लीलू राम 1 लाख 93 हजार 700, निवासी शामली (उत्तर प्रदेश)

आरोपितों ने बनाई अपनी संपत्ति

पीड़ित लीलूराम के अनुसार आरोपितों की पंजाब के गुरदासपुर के टिबरी में 27 एकड़ जमीन, गुरदासपुर के मीरपुर गांव में छह एकड़ जमीन, छत्तीसगढ़ के समर गांव में 17 एकड़ जमीन, अमृतसर की 95 एनआरआइ कालोनी मं 250 वर्ग गज में कोठी, गुरदासपुर के दीनानगर में एक एकड़ में कोठी, अमृतसर से रेडीकल कैंप में 300 वर्ग गज जमीन, उत्तर प्रदेश के सिकंदराबाद में 11 बीघा जमीन खरीद रखी है।

Edited By: Vijay

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट