कैथल, जागरण संवाददाता। कैथल मंडी में चार दिन से जारी आढ़ती एसोसिएशन की हड़ताल के बाद शुक्रवार काे मजदूर, किसान, मुनीम व आढ़तियों ने जींद रोड स्थित जाखौली अड्डा पर करीब दो घंटे जाम लगाया। आढ़तियों व मजदूर और मुनीमों ने जल्द सरकारी खरीद शुरू करवाने की मांग की।

आढ़तियों का कहना है कि जब तक ई-नेम व ई-खरीद प्रणाली और आढ़त संबंधी मांग नहीं मानी जाती आढ़तियों की हड़ताल जारी रहेगी। जाम की सूचना पाकर एसडीएम संजय कुमार, तहसीलदार सुदेश मेहरा व डीएसपी रवींद्र सांगवान ने मौके पर पहुंचकर आढ़तियों को आश्वासन देकर जाम खुलवाया। इससे पहले दर्जनों मजदूर, किसान व आढ़तियों ने मार्केट कमेटी कार्यालय पर प्रदर्शन किया। यहां काफी समय तक हंगामा भी हुआ।

इसके बाद गुस्साए किसानों व आढ़तियों ने जींद रोड स्थित जाखौली अड्डा पर जाम लगाकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। जाम के कारण सड़क के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई। इस दौरान बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा।

बता दें 19 सितंबर से मंडी आढ़ती एसोसिएशन ई-नेम व आढ़त में कटौती किए जाने के विरोध में हड़ताल पर है। इस कारण यहां मजदूरों का भी काम धंधा प्रभावित हो रहा है। उधर, धान लेकर मंडियों में पहुंच रहे किसानों की हड़ताल के कारण फसल नहीं खरीदी जा रही। जिस कारण किसानों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बारिश में मंडियों में पड़ा धान पूरी तरह भीग चुका है।

ई-नेम व आढ़त कम के विरोध में लगाया जाम

प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे मंडी एसोसिएशन के चेयरमैन धर्मपाल कठवाड़, बजरंग दास, कृष्ण कुमार, श्याम लाल नौच, संजय लदाना सुभाष कैलरम, धनीराम गर्ग का कहना है कि आढ़ती न्यायालय से ई-नेम के मामले में केस जीत चुके हैं, लेकिन सरकार इसे आढ़तियों पर जबरदस्ती थोप रही है। इसके साथ आढ़त भी कम कर रही है। जब तक सरकार उनकी मांगें नहीं मानती, हड़ताल जारी रहेगी।

मंडी सचिव को लगी फटकार

जाम की सूचना पाकर एसडीएम संजय कुमार, तहसीलदार सुदेश मेहरा व डीएसपी रवींद्र सांगवान मौके पर पहुंचे। यहां पहले से ही मौजूद मार्केट कमेटी सचिव सतबीर राविश से एसडीएम ने मंडी व्यवस्था की जानकारी ली। इसके बाद आढ़तियों की ओर से सड़क पर जाम लगाने के बारे में पूछा, लेकिन वे कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। इसके बाद एसडीएम का गुस्सा एकदम से बढ़ गया और सचिव को खूब फटकार लगाई। उन्होंने मंडी में किसानों के लिए पानी, शौचालय सहित सभी सुविधा मुहैया कराने के निर्देश दिए।

चार दिन से मंडी में पड़ी फसल नहीं हो रही खरीद

धान की फसल लेकर पहुंचे गांव नरड़ निवासी मेवाराम ने कहा कि वे मंगलवार को मंडी में धान की फसल लेकर आए थे। अभी तक खरीद नहीं हुई है। इसके बाद वर्षा हो रही है। इसमें काफी फसल भीग गई है। हड़ताल व वर्षा के कारण किसानों को दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। किसानों का 25 प्रतिशत फसल में नुकसान हो चुका है।

दस दिन से मंडी में बैठे नहीं मिल रहा काम

बिहार से यहां काम के लिए पहुंचे मजदूर कपिल ने कहा कि मंडी में हड़ताल जारी है। दस दिन से उन्हें काम नहीं मिला है। इस कारण काफी नुकसान हो रहा है। घर का खर्च भी नहीं चल रहा। मंडी में खरीद शुरू होगी तो सब ठीक हो जाएगा।

जल्द शुरू हो धान की खरीद

मजदूर लच्छन का कहना है कि सरकार जल्द खरीद शुरू करवाए। यहां गरीब लोग भूखे मरने की कगार पर है। काम भी नहीं है और पैसे भी नहीं है। उन्हाेंने सरकार से धान की सरकारी खरीद शुरु करवाने की मांग की।

वापस जाने के भी पैसे नहीं

बिहार से मंडी में काम के लिए पहुंचे विकास का कहना है कि धान के सीजन में काम के लिए यहां पहुंचे थे। यहां आढ़तियाें ने भी हड़ताल शुरू कर दी। अब यहां काम भी नहीं मिल रहा है और वापस जाने के लिए पैसे भी नहीं है।

Edited By: Anurag Shukla