पानीपत, जेएनएन। कोरोना महामारी के दूसरी लहर काफी आक्रामक है। इस बार छोटे बच्चों और युवाओं को अपनी गिरफ्त में ले रही है। आम और खास सभी लोगों में कोरोना को लेकर दहशत है। देश के लगभग सभी राज्यों ने लाकडाउन लगा रखा है।

हालत को देखते हुए कम लोग ही बाहर निकल रहे हैं। लाकडाउन और बिगड़ते हालत को देखते हुए लोगों ने आनलाइन शापिंग पर जोर दिया है। पानीपत में होम फर्निशिंग, तोलिया से लेकर बेड सीट, कपड़ा, गारमेंट की खरीद आन लाइन बढ़ गई है। यहां के उद्योगों में मास्क का उत्पादन भी बढ़ता जा रहा है। मास्क की बिक्री में भी आन लाइन हो रही है। आन लाइन डिमांड बढ़ने से इ-कामर्स कंपनियां उत्साहित हैं। हैंडलूम कारोबारी उत्पादन से लेकर विपणन तक पर विशेष फोक्स कर रहे हैं। ताकि आगे आनलाइन कारोबार को नई ऊंचाई पर पहुंचाया जा सके।

बाहर नहीं निकल रहे लोग

कोरोना महामारी की दूसरी लहर खतरनाक है। लोग अपने घरों से कपड़ा परिधान की खरीदी के लिए नहीं निकल रहे। ऐसे में विकल्प के तौर पर युवा खरीदारी के लिए आन लाइन पर जोर दे रहे हैं। कंपनियों के माधयम से पानीपत से करोड़ो रुपये का करटन क्लाथ, टावल, रेडिमेड, गारमेंट आन लाइन बिकता है। दुकाने बंद होने कारोबार पर प्रभावित होने के कारण युवाओं से लेकर अन्य ट्रेड में काम करने वाले भी आनलाइन कारोबार से जुड़ रहे हैं। कंपनियां आन लाइन खरीदी पर कैश बैक और डिस्काउंट दे रही है।

मांग अधिक निकल रही है

आनलाइन कारोबार करने वाले हैंडलूम मार्केट के गुलशन सेठी ने बताया कि पिछले वर्ष भी लाक डाउन के दौरान आनलाइन से सैकड़ों युवा जु़ड़ गए थे। वे आनलाइन कारोबार करके सेलेरी से भी अधिक कमा रहे थे। अब आनलाइन डिमांड अधिक चल रही है।