अंबाला, जागरण संवाददाता। हरियाणा में आइटीआइ में दाखिला प्रक्रिया को एक बार फिर से सरकार ने बढ़ा दिया है। इस तरह सितंबर से चल रही दाखिला प्रक्रिया अब 15 जनवरी तक जारी रहेगी। हालंकि शनिवार को लगे लाकडाउन बाद यह प्रक्रिया अब और भी लंबी चल सकती है। इसका कारण है कि ज्यादातर राजकीय आइटीआइ में भी सीटें नहीं भर पाना है। निजी संस्थानों की बात करें तो यहां के हाल और भी चिंतनीय हैं।

विभाग बार बार बढ़ा रहा है दाखिले की तारीख

ज्यादातर प्राइवेट आइटीआइ में तो 70 फीसदी सीटें खाली हैं। ऐसे में इन सीटों को भरना हरियाणा कौशल एवं औद्योगिक विकास विभाग के लिए चुनौती हो गया है। अंबाला जिले की बात करें तो यहाँ 8 राजकीय आइटीआइ में करीब 560 सीटें रिक्त हैं। बता दें कि विभाग अब तक 4 बार दाखिले की तारीख बढ़ा चुका है।

क्या है सीटों की स्थिति

प्रदेशभर में करीब 172 राजकीय और 200 प्राइवेट आइटीआइ हैं। इन सभी में कुल मिलाकर अलग अलग 84 ट्रेड में दाखिला होता है। प्रदेशभर की सभी आइटीआइ में करीब 1 लाख 29 हजार 904 सीटें रिलीज की गई हैं। इन सीटों के लिए करीब 1 लाख 6 हजार युवाओं ने पंजीकरण करवाया है।

दाखिलों में ये राजकीय आइटीआइ टाप टेन, अंबाला सिटी की आइटीआइ भी सूची में शामिल:-

राजकीय आइटीआइ पलवल इसमें दाखिले के लिए सबसे ज्यादा 18818 आवेदन आए हैं।

  • हिसार -16108
  • करनाल-15767
  • यमुनानगर-14958
  • जींद--14757
  • फरीदाबाद--13528
  • कैथल--12928
  • भिवानी--12850
  • अंबाला सिटी--12465
  • गुरुग्राम--12140

बता दें कि पंजीकरण करवाने के बाद एक आवेदक कई शिक्षण संस्थानों में आवेदन कर सकता है इसीलिए आवेदन की संख्या कुल पंजीकरण से कई अधिक होती है।

अधिकारी के अनुसार

आइटीआइ में चल रही परीक्षाओं पर कोई असर नहीं पड़ेगा। मुख्य सचिव हरियाणा सरकार द्वारा जो पत्र जारी किया गया है उसमें साफ किया गया है कि विशेष परीक्षाओं पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

---राजकुमार, अतिरिक्त निदेशक हरियाणा कौशल विकास एवं औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग।

Edited By: Naveen Dalal