जागरण संवाददाता, पानीपत : नगर निगम में कथित भ्रष्टाचार के मामलों से कार्यालय का माहौल बदल रहा है। निगम के कुछ अधिकारी अब सहमे हैं। फाइलों पर बारीकी से जांच करने के बाद भी हस्ताक्षर करने में आनाकानी कर रहे हैं। डिप्टी म्यूनिसिपल कमिश्नर (डीएमसी) जितेंद्र कुमार व लोगों के बीच जमकर बहस हुई।

एक व्यक्ति ने डीएमसी से फाइल पर हस्ताक्षर करने को कहा तो उन्होंने मना कर दिया गया। इस पर व्यक्ति ने डीएमसी जितेंद्र कुमार के साथ जमकर बहस की। डीएमसी ने एफआइआर करवाने बात कही, तब जाकर पीछा छूटा। इसके बाद अधिकारी एक कमरे से दूसरे कमरे जाते दिखे। डीएमसी जितेंद्र कुमार के अनुसार अब उन्हीं फाइलों पर हस्ताक्षर किए जा रहे हैं, जिनके मालिक साथ आए हों। इससे पारदर्शिता से काम किया जा सकता है।

बता दें कि नगर निगम में भ्रष्टाचार के मामले में अधिकारी व कर्मचारी फंस चुके हैं। सभी जमानत पर हैं। कर्मचारियों व अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है। अधिकारियों के साथ झड़प करने वाले की वीडियो रिकार्डिंग

डीएमसी के साथ झड़प करने वाले लोगों की अब कर्मचारियों ने वीडियो बनानी शुरू कर दी है। कार्रवाई करने में आसानी हो सकेगी। अब प्रतिदिन ऐसे मामलों की रिपोर्ट कमिश्नर को दी जाएगी। फाइलों को सही से देखकर ही हस्ताक्षर

नगर निगम के डीएमसी जितेंद्र कुमार ने जागरण से बातचीत में कहा कि फाइलों को सही से देखकर ही हस्ताक्षर किए जा रहे हैं। अगर फाइल किसी ओर की और दूसरा व्यक्ति फाइल लिए मिलता है तो उसकी फाइल पर हस्ताक्षर नहीं किए जाएंगे। इससे दलालों पर रोक लगेगी।

Edited By: Jagran