जागरण संवाददाता, पानीपत: शहर में जीटी रोड पर रास्ता नहीं। यहां हर समय जाम की स्थिति बनी रहती है। सेक्टरों और शहर की पॉश एरिया की सड़कें भी तंग होती जा रही हैं। शहर में किसी भी सड़क पर साइकिल ट्रैक नहीं है। ऐसे में सड़कों पर हादसों को नहीं रोका जा सकता। हादसों को रोकने के लिए रोड इंजीनियरिग पर काम करने की जरूरत है।

शनिवार शाम को सातवीं कक्षा के सौरभ ही सड़क हादसे में जान रोड इंजीनियरिग फेलीयर के चलते गई। सेक्टरों के डिजाइन पर उठने लगे सवाल

हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण सेक्टरों में मकान नक्शे पर बनाता है। संबंधित व्यक्ति को निर्माण कार्य शुरू करने से पहले नक्शा पास कराना होता है। सेक्टरों में चौड़ी सड़कें तो है, लेकिन इंजीनियरिग के चलते केवल गाड़ियों तक सीमित होकर रह गई हैं। साइकिल के लिए अलग से कोई ट्रैक नहीं बनाया गया और न ही कहीं पर फुटपाथ है। ऐसे में सरपट दौड़ती गाड़ियों के बीच से स्कूटी और साइकिल सवारों का निकल पाना मुश्किल है। निगम भी फेल साबित हो रहा

पॉश एरिया की जिम्मेदारी नगर निगम के पास है। मॉडल टाउन में गत वर्ष करोड़ों रुपये की लागत से सड़क बनाई। यहां पर न फुटपाथ और न ही साइकिल ट्रैक बनाया गया। निगम के इंजीनियरों ने भी इस तरह कोई ध्यान नहीं दिया। निगम के पार्कों की तरफ देखे तो यहां बीच में हट बनवा दी जाती है। ऐसे में बच्चों को पार्कों में भी खेलने के लिए जगह नहीं मिल पाती।

वर्जन :

सड़कों के साथ फुटपाथ और साइकिल ट्रैक होना चाहिए। शहर में अब तक किसी भी सड़क पर ऐसी व्यवस्था नहीं है। नगर निगम इसके लिए प्लानिग कर रहा है।

राहुल पुनिया, एक्सईएन, नगर निगम।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस