संवाद सूत्र, थर्मल : सौदापुर गांव स्थित हेमचंद्र विक्रमादित्य की समाधि का अब जीर्णोद्वार होगा। 90 लाख रुपये खर्च किए जाएंगे। समाधि को विकसित करने के प्रोजेक्ट को लेकर पंचायती राज विभाग के एसडीओ राजेंद्र ने बुधवार को समाधि स्थल का दौरा किया।

सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार वर्ष 2017 में डीसी चंद्रशेखर खरे के समय इस ऐतिहासिक स्थल को विकसित करने का प्रपोजल तैयार किया गया। प्रपोजल में पुराने झील को दोबारा चालू करने, एक पार्क बनाने और राजा का स्मारक शामिल हैं। ऐतिहासिक साक्ष्यों के अनुसार राजा हेमचंद्र विक्रमादित्य को पानीपत में मुगलों से लड़ाई के समय उनकी आंख में तीर लगा था। उन्होंने अपनी आखिरी सांस सौदापुर गांव के इसी स्थान पर लिया। इस स्थान पर एक अन्य समुदाय हक जता रहा है। ग्रामीणों ने तात्कालीन डीसी खरे से शिकायत भी की थी। करीब आठ साल पहले यहां पर हिमाचल प्रदेश के तत्कालीन राज्यपाल वीएस कोकजे व मुंबई से काफी संख्या में मराठा वंशज भी आए।

पंचायती राज विभाग के एसडीओ ने बताया कि अब यहां पर जल्द ही काम शुरू होगा। सरकार का उद्देश्य इस ऐतिहासिक स्थल को एक पर्यटक केंद्र के रूप में विकसित करना है।

दैनिक जागरण ने उठाया मुद्दा

पानीपत के बेहाल धरोहरों को संवारने के लिए दैनिक जागरण ने मुद्दा उठाया था। बीते एक जनवरी से 14 जनवरी तक धरोहरों के बेहाली की खबरें प्रकाशित की। सरकार ने अब इस पर संज्ञान लिया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस