जागरण संवाददाता, पानीपत : सेक्टर 12 स्थित न्यू हाउसिग बोर्ड कालोनी में दूषित पानी की आपूर्ति का सिलसिला थमा नहीं है। फाल्ट खोजने में नाकामयाब हशविप्रा के अधिकारी दावा कर रहे हैं कि घरों में अब साफ पानी आ रहा है। उधर, लोग 16 दिनों से दूषित पेजयल की समस्या को लेकर परेशान हैं। अब ब्लीचिग मिलाकर पानी की सप्लाई हो रही है।

न्यू हाउसिग बोर्ड कालोनी स्थित पार्क में 18 नंबर ट्यूबवेल है। इस ट्यूबवेल से लोगों के घरों में दूषित जल की आपूर्ति की जा रही है। शिकायत के बाद हशविप्रा की टीम फाल्ट खोजने में दिन-रात एक किए है। अधिकारी अपने बचाव में तर्क दे रहे हैं कि ट्यूबवेल बंद रहने पर पाइप में बचे पानी को लोग मोटर से खींचने का प्रयास करते हैं। इससे स्लिटिग की स्थिति पैदा होती है। रेत मिक्स होकर घरों में यही पानी पहुंच जाता है। इसे रोकने के लिए दो जगह गड्ढे खोद कर स्कोरिग करा रहे हैं। ताकि स्थायी रूप से इस समस्या का निदान किया जा सके।

दैनिक जागरण में खबर प्रकाशित होने के बाद हशविप्रा के जेई सुनील कुमार ने तुरंत संज्ञान लेते हुए ऑपरेटर को घरों में जाकर सप्लाई पानी देखने के लिए कहा। वह स्वयं भी कालोनी पहुंच कर सात-आठ घरों में पानी चेक कर रहे हैं। दावा किया कि किसी तरह की दुर्गंध नहीं आ रहा है। स्कोरिग वाले साइट को जाकर देखा। कालोनी में रहने वाले बिट्टू ने बताया कि दूषित पानी से उनकी तबीयत बिगड़ गई है। अब ब्लीचिग मिला कर पानी की सप्लाई कर रहे हैं। अधिकारी चाहें अपनी पीठ जितनी थपथपाएं, पानी से दुर्गंध खत्म नहीं हुई है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस