पानीपत, जेएनएन। पत्थरगढ़ गांव में पूर्व सरपंच के बेटे को उसी के भतीजे ने चाकू से वार कर मार डाला। युवक का कसूर सिर्फ इतना था कि बड़े भाई को शराब पीकर पड़ोसी के साथ झगड़ा न करने की नसीहत दे दी थी। इसके बाद बड़े भाई की पत्‍नी और बेटे ने वारदात को अंजाम दिया। 

पत्थरगढ़ गांव के पूर्व सरपंच चंदू के बेटे रोहताश ने बताया कि वे छह भाई और एक बहन हैं। बड़े भाई राजेंद्र की पड़ोसी के साथ कहासुनी हो गई थी। सबसे छोटा जोगेंद्र (27) समझाने के लिए उसके घर गया था। वह भाई से बात कर रहा था, तभी भाभी राजवंती ने गाली-गलौज की। शोर सुनकर वह, छोटा भाई बालेशर और जोगेंद्र की पत्नी मौके पर पहुंचे। राजवंती ने जोगेंद्र को पीछे से पकड़ लिया और भतीजे अंकुर ने छाती पर चाकू से दो वार कर दिए। खून से लथपथ जोगेंद्र घर की तरफ चला और गली में गिर गया। मौके पर ही मौत हो गई। बड़ा भाई राजेंद्र, उसका बेटा अंकुर और उसकी पत्नी राजवंती फरार हो गए। सनौली थाना प्रभारी इंस्पेक्टर राजबीर सिंह का कहना है कि रोहताश के बयान पर अंकुर और राजवंती के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। दोनों आरोपितों की तलाश की जा रही है। 

murder
मृतक के बच्‍‍‍‍चे।

छिन गया सहारा
मृतक के भाई बालेशर ने बताया कि जोगेंद्र मजदूरी कर पत्नी दीप, बेटी मौसम (10), बेटे जोनी (8), नैना (6) और नैंसी (4) की परवरिश कर रहा था। दीप गर्भवती है। रविवार दोपहर दीप को प्रसव पीड़ा हो गई थी। जोगेंद्र की पत्नी दीप को लेकर सामान्य अस्पताल ले गया था। डॉक्टरों ने कहा था कि 15 दिन बाद डिलीवरी होगी। इसके बाद जोगेंद्र पत्नी को लेकर घर लौट आया था। रात को ही हत्या कर दी। ग्रामीणों का कहना है कि अंकुर हमेशा चाकू रखता था। किसी के साथ उसका झगड़ा होता तो वह चाकू निकाल लेता। उसे दादागीरी का शगल था।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस