जागरण संवाददाता, समालखा : नगरपालिका की टीम ने पुलिस बल के साथ रेलवे रोड और तोता राम मार्केट से अतिक्रमण हटाया। सामान जब्त करते समय कई जगहों पर दुकानदार, रेहड़ी वाले और नपा कर्मचारियों के बीच नोंकझोंक भी हुआ। पुलिस ने विवादों को शांत किया। दो बजे से शाम चार बजे तक चले अभियान में करीब दो दर्जन दुकानदारों के सामान जब्त किए गए।

नवंबर माह में त्योहार होने से पालिका ने अतिक्रमण की कार्रवाई नहीं की थी। अभियान के बंद होने से दुकानदारों और रेहड़ी वालों का मनोबल बढ़ा था। फुटपाथ और रास्ते पर दुकान सजाए थे। टीम ने सफाई कर्मचारियों के साथ पुराना बस अड्डा से अतिक्रमण हटाना शुरू किया। फुटपाथ पर रखे काउंटर और सामान सहित रोड पर लगी रेहड़ियों के हटाते समय रेलवे रोड पर टीम को विरोध का सामाना करना पड़ा। दुकानदार सामान उठाने से रोक रहे थे। कार्रवाई के लिए पालिका कर्मियों को कोस रहे थे। जंजीर से बांध रखे थे काउंटर

रेलवे रोड पर दुकानदार फुटपाथ पर रखे काउंटर को लोहे की कील और जंजीर से बांध रखे थे। कर्मचारियों के पास तोड़ने के लिए औजार नहीं था। ऐसे लोगों को काउंटर हटाने की हिदायत दी गई है। दोबारा फुटपाथ पर अतिक्रमण मिलने पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है। कार्रवाई से बाजार में हड़कंप मचा रहा। शाम होते ही दोबारा हो गया अतिक्रमण

अभियान की सूचना मिलते ही रेहड़ी वाले जहां कार्रवाई से पहले आसपास की गलियों और सड़कों पर छुप गए। वहीं दुकानदारों ने अपना सामान भीतर कर लिया। टीम के जाने और शाम होते ही सभी दोबारा सड़क किनारे दुकान सजा लिए। पुलिस ने भी किए सौ पोस्टल चालान

अतिक्रमण की कार्रवाई के दौरान पुलिस ने भी रोड पर खड़े वाहनों के पोस्टल चालान किए। शहरी ट्रैफिक इंचार्ज राजेश राठी ने बताया कि पूरे दिन में करीब 100 वाहनों के पांच-पांच सौ रुपये के पोस्टल चालान किए गए हैं। लगातार कार्रवाई के बावजूद दुकानदार और उनके वाहन वाले ग्राहक नहीं मान रहे हैं। गुलाटी, मातापुली, तोताराम गेट आदि क्षेत्र में तो बुरा हाल है। वहां से पैदल गुजरना भी दूभर रहता है।

Edited By: Jagran