जागरण संवाददाता, पानीपत : एनएफएल के पास गणेश कॉलोनी के अजय की अज्ञात बदमाशों ने ईंट से पीट-पीट हत्या कर दी। हत्यारे 15 हजार रुपये और मोबाइल फोन ले गए। शव कॉलोनी के बाहर सड़क किनारे झाड़ियों में फेंक दिया। 22 घंटे बाद शव की शिनाख्त हुई। अजय फैक्ट्री में काम करता था।

गणेश कॉलोनी के मोहम्मद मनीर ने बताया कि वह मूलरूप से उत्तर दिनाजपुर (पश्चिम बंगाल) के घरगच गांव का रहने वाला है। कई वर्षों से पत्नी तस्लीमा और पिता लाल मोहम्मद के साथ यहां रह रहा है। उसकी ससुराल मजलिशपुर का अजय (24) उसके पिता के साथ महराणा गांव में जीजी स्पिनिग मिल में काम करता था। वह अविवाहित था और अधिकतर उनके घर ही खाना खाता था। शुक्रवार की रात लगभग 10 बजे खाना खाने के बाद टहलने निकला था। रात को घर नहीं लौटा। शनिवार को उसने गांव में ससुर शेर मोहम्मद से अजय के गांव आने के बारे में पूछा तो उन्होंने गांव नहीं पहुंचने की बात कही। शाम आठ बजे पत्नी तस्लीमा को पड़ोसी ने एनएफएल के पास झाड़ियों में युवक का शव मिलने की सूचना दी। वह घटनास्थल पर पहुंचा तो झाड़ियों अजय का लहूलुहान शव मिला। फोन, नकदी और जूते मिले गायब

मनीर ने बताया कि अजय ने शुक्रवार सुबह ही 15 हजार रुपये गांव भेजने के लिए उसके पिता लाल मोहम्मद से उधार लिये थे। जो शाम तक उसके पास ही थे, लेकिन रुपये नहीं मिले। उसका फोन भी गायब मिला। फोन स्विच ऑफ आ रहा है। जूते भी नहीं मिले। पहचान छिपाना चाहता था हत्यारा, बोर्ड ने किया पोस्टमार्टम

हत्यारोपित अजय का कोई जानकार ही है। वह अजय की मौत होने के बाद भी चेहरे पर पत्थर से वार करता रहा, ताकि शव की पहचान न हो सके। डॉ. प्रीति भाटिया और डॉ. सोनिया कुंडू के बोर्ड ने रविवार को पोस्टमार्टम किया। शरीर पर कुछ अन्य जगहों पर भी चोट के निशान मिले है। वर्जन

एफएसएल टीम ने घटनास्थल का जायजा लेकर कई अहम सुबूत जुटाए हैं। फिलहाल हत्या की कोई वजह सामने नहीं आई है। पोस्टमार्टम करा शव स्वजनों को सौंप दिया। जल्द ही आरोपित को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

सुनील कुमार, थाना मॉडल टाउन प्रभारी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस