जागरण संवाददाता, पानीपत

सीजेएम एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव मोहित अग्रवाल ने बुधवार को करनाल व पानीपत जिला जेल में मासिक लोक अदालत लगाई। करनाल जेल में 14 केसों का निपटारा किया । पानीपत जेल के 2 बंदियों को फ्री वकील मुहैया कराया गया।

सीजेएम मोहित अग्रवाल ने बताया कि करनाल जिला जेल में जींद के नरवाना निवासी पंकज, सोनीपत निवासी जगदीश, पानीपत के राणा माजरा निवासी शाहरुख, सुभाष बाजार निवासी प्रदीप और बागपत के बडल गांव निवासी हाशिम चोरी के केस में बंद थे। इसके अलावा लुधियाना बंसत नगर निवासी लखविंद्र, पानीपत के गांव धनसौली निवासी नरेश व सौंधापुर निवासी मुन्ना भगौड़ा घोषित होने के बाद पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर जेल भेजे गए थे। सभी ने अपराध को लेकर अदालत से क्षमा मांगी और अच्छा नागरिक बनने का वायदा किया। भुगती गई सजा को पर्याप्त मानकर, सभी को जेल से रिहाई दी गई। पानीपत जेल में सुनवाई के लिए केस शामिल नहीं किया गया। यहां एक केस में दो बंदियों को वकील मुहैया कराकर, फ्री कानूनी मदद की पहल की गई।

करनाल जेल की एक बैरेक में कुछ बंदियों ने स्वयं का नाबालिग बताया। जेल प्रबंधन से उनकी फाइल भेजने के निर्देश दिए ताकि संबंधित कोर्ट को भेजी जा सकें। बंदियों को उनके अधिकारों और डीएलएसए से मिलने वाली नि:शुल्क कानूनी सहायता की जानकारी दी गई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस