अपनों को लील रहे पैसे, अवैध संबंध और रंजिश

जागरण संवाददाता, पानीपत : पैसे, अवैध संबंध और रिश्तों में बढ़ी नफरत, के कारण अपने ही अपनों का कत्ल कर रहे हैं। अवैध संबंधों के कारण पति-पत्नी की हत्या, गैर जाति में विवाह के कारण बहन की हत्या इसके गवाह हैं। लोगों में गुस्सा इतना कि पति ने चाय नहीं बनाने पर पत्नी को मार डाला। मनोचिकित्सकों की मानें तो एकल परिवार, बेरोजगारी, तनाव, इच्छा पूरी न होना इसकी वजह हैं। ये चार किस्से बयां कर रहे सच्चाई

पति को प्रेमी के साथ मिलकर मारा, उम्रकैद पाई

दीनानाथ कॉलोनी निवासी प्लंबर प्रवेश की पत्नी सुनीता फैक्ट्री में काम करती थी। इस दौरान उसने साथी श्रमिक सोनू से संबंध बना लिए। पति प्रवेश ने एतराज जताया तो प्रेमी सोनू, साथी विकास ने सात नवंबर 2015 को उसे शराब पिलाकर बाबरपुर ले गया और रस्सी से गला घोंट हत्या कर दी। पहचान छिपाने के लिए मुंह पर पत्थर से प्रहार किए। पत्नी सुनीता ने बिहार जाकर स्वजनों को प्रवेश के नहर में डूबने की बात कही। नाले में मिले शव का डीएनए कराया तो शव प्रवेश का निकला। पुलिस ने सुनीता, उसके प्रेमी सोनू निवासी बुढ़ाना, भांजे विकास निवासी हमीराबाद बागपत को गिरफ्तार किया। कोर्ट ने तीनों आरोपितों को उम्र कैद की सजा सुनाई। अवैध संबंधों में अड़चन थी पत्नी, इसलिए मार डाला

अवैध संबंधों में अड़चन बनी लकवाग्रस्त पत्नी की गला रेतकर हत्या करने के आरोपित व्यवसायी पति सुभाष गोयल और उसकी प्रेमिका मंजू को अतिरिक्त जिला और सत्र न्यायाधीश शशिबाला चौहान की अदालत ने उम्र कैद की सजा सुनाई है। दोषी सुभाष पर एक लाख रुपये और मंजू पर 50 हजार रुपये जुर्माना लगाया। आठ जून 2016 को जाटल रोड स्थित चौधरी अस्पताल के पास लकवाग्रस्त रेणू गोयल का लहुलूहान शव मिला। पति सुभाष ने हत्या का केस दर्ज कराया। जांच में पता लगा कि सुभाष के पड़ोसन से अवैध संबंध थे। इसके लिए रेणु झगड़ा करती थी। सुभाष ने प्रेमिका मंजू संग मिलकर पत्नी रेणु का गला रेत दिया। भाई को नहीं भायी बहन की गैर जाति में शादी, घोंट दिया गला

तीन अप्रैल 2018 को नांगलखेड़ी गांव में रोहताश कादियान का क्वार्टर उप्र के हरदोई के रगदा खेड़ा गांव निवासी आरिफ अली और खदरी बहुती कलां गांव के अवधेश ने किराये पर लिया। दो दिन बाद जीजा आरिफ का साले अवधेश से झगड़ा हुआ। बहन की इंटर कास्ट मैरिज के कारण भाई ने बहन उषा की चुन्नी से गला दबाकर हत्या कर दी। आरोपित शव फंदे पर लटका कर फरार हो गया। पुलिस ने लगभग एक माह बाद आरोपित आरिफ को गोहाना मोड़ से गिरफ्तार किया। उसने बदला लेने के लिए ही जीजा आरिफ और बहन उषा को पानीपत में नौकरी दिलाने के बहाने बुलाया था। रंजिश में ममेरे भाई का ही कत्ल कर दिया

रंजिश के चलते 16 मार्च 2018 को सतीश चंद ने बुआ के बेटे जबर सिंह को शराब पिलाई और फिर ईंट से सिर में वार करके कत्ल कर दिया। शव को गंगाराम कॉलोनी के पास गेहूं के खेत में दबा दिया। 23 मार्च को कुत्ते शव को नोचने लगे तो वारदात का खुलासा हुआ। चार दिन बाद पुलिस ने हत्यारोपित ममेरे भाई जबर सिंह को पकड़ा तो उसके पूरे हत्याकांड का खुलासा किया। वहीं, मृतक का बेटा अंकुर आरोप लगाता रहा कि उसके पिता का कत्ल सतीश चंद ने चाची और चचेरे भाई के साथ मिलकर किया है। चाय नहीं बनाई तो परने से पटक कर मारा

शांतिनगर में 12 मई 2019 को राजू ने उसकी पत्नी आशा को चाय बनाने के लिए कहा था। पत्नी ने मना कर दिया। इसे लेकर दोनों में मारपीट हो गई थी। उसने पत्नी के गले में परना (कपड़ा) डाला। दीवार से चार बार सिर टकरा दिया। इसके बाद गला घोंट दिया। पत्नी के शव को बाथरूम में डालकर कमरे को ताला लगाकर छह वर्षीय बेटे रवि और चार वर्षीय बेटी राधिका को साथ लेकर भाग गया। 14 मई दोपहर को पड़ोसी स्वर्ण सिंह का बेटा दीपक बाथरूम में घुसा तो उसे बदबू आई। दीपक ने जंगले से झांक कर देखा तो आशा मृत पड़ी थी। शव में कीड़े पड़ चुके थे। 2 अगस्त 2019 को पुलिस ने सीआइए-टू ने रेलवे रोड समालखा से गिरफ्तार किया था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस