पानीपत, जेएनएन। कोरोना वायरस की वजह से जिला लॉकडाउन है। मजदूर तबका सबसे ज्यादा प्रभावित है। जिनका परिवार नहीं है, उनकी परेशानी और बढ़ गई है। इन तक खाना पहुंचाने के लिए शहर की समाजसेवी और शिक्षण संस्थाओं ने जिम्मा लिया है। करीब तीस हजार पैकेट हर रोज मुहैया कराएंगे। दिन में दो बार खाना उपलब्ध कराया जाएगा। गुरुवार को नोडल अधिकारी और उच्चतर शिक्षा विभाग के महानिदेशक अजित जोशी ने धार्मिक, सामाजिक एवं शैक्षणिक संस्थानों के साथ बैठक की।

पानीपत को अलग-अलग जोन में बांटकर सहायता मुहैया कराने का कार्य किया जाएगा। खाद्य सामग्री के आवागमन के लिए एसडीएम समालखा साहिल गुप्ता नोडल अधिकारी रहेंगे। उपायुक्त हेमा शर्मा ने कहा कि यहां की संस्थाएं प्रशासन के विभिन्न आयोजनों में बढ़चढ़ कर भाग लेती हैं। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान आम आदमी को खाने-पीने के सामान में कमी नहीं आने दी जाएगी।

दुकानों के लिए गाड़ी पास बनेगा

राशन की दुकानों तक सामान पहुंचाने के लिए गाड़ी पास बनाया जाएगा। इसके लिए एसडीएम दलबीर सिंह पास जारी करेंगे। यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि कुछ-एक दुकानों पर सरकारी रेट पर सामान की बिक्री की जाए।

इन्होंने लिया जिम्मा

देवेंद्रा भोजनालय 500 पैकेट

राधास्वामी 10000 पैकेज

निरंकारी 1000 पैकेट

सिंह सभा मॉडल टाउन 500 पैकेट

वक्त दे रक्त दे 1000 पैकेट

रोटरी मिडटाउन 5000 पैकेट

पाइट 1000 पैकेट

गीता ग्रुप 1000 पैकेज

ये रहे मौजूद

इस मौके पर एडीसी प्रीति, सीटीएम सुमन भांखड़, विश्व मानव रूहाणी सत्संग संस्था से सुरेंद्र आहूजा, दीपक सलूजा, पाइट संस्थान से राकेश तायल, गीता शिक्षण संस्थान से निशांत बंसल, फ्रैंडस मिशन के विजयंत शर्मा व तरुण छौक्करा, गौरव लीखा, मेहुल जैन, इरफान, श्रीकृष्ण कृपा सेवा समिति से सुरेश अरोड़ा, सुनील ग्रोवर व मोहित अरोड़ा, रोटरी मिड टाउन, गुरुरामदास सिंह सभा, आरएसओ टीम, निरंकारी मिशन, फलाईंग कल्ब नितिन अरोड़ा पानीपत की विभिन्न संस्थाओं के उपस्थित रहे।

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस