पानीपत, [महावीर गोयल]। बिहार, मध्यप्रदेश राजस्थान की तर्ज पर अब हरियाणा में भी मनरेगा के कर्मचारियों को कर्मचारी भविष्यनिधि की सुविधा दी जाएगी। मनरेगा कर्मचारी एसोसिएशन की मांग को देखते हुए कर्मचारी भविष्यनिधि आयुक्‍त ने जिला प्रशासन स्तर पर यह व्यवस्था करने के लिए सभी उपायुक्त को मनरेगा कर्मचारियों को ईपीएफ के तहत कवर करवाने के लिए पत्र लिखा है।

सरकारी विभाग में कांट्रेक्ट पर काम करने वालों का काटना होगा पीएफ अंशदान

कर्मचारी भविष्य निधि के जिला आयुक्त अमित नैन ने बताया कि प्रदेश सरकार ने कांट्रेक्ट पर काम करने वाले कर्मचारियों, श्रमिकों को भी ईपीएफ के तहत कवर करने के लिए निर्देश जारी कर दिए है। साथ ही सरकारी विभागों का औचक निरीक्षण करने के निर्देश भी जारी किए गए हैैं।

यह भी पढ़ें: परंपरा छोड़ आत्मनिर्भरता के पथ पर अग्रसर हुईं हरियाणा की पंचायतें

कर्मचारी भविष्यनिधि की मुख्य रूप से बिजली निगम, वन विभाग, नगर निगम, खाद्य आपूर्ति विभाग पर नजरें रहेंगी। इन विभागों में ईपीएफ के अधिकारी औचक निरीक्षण करेंगे। यदि ठेके पर काम करने वाले कर्मचारियों, श्रमिकों का ईपीएफ कटता नहीं मिला तो विभाग के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

पानीपत में मनरेगा के तहत कामगारों की स्थिति

परिवार  :    6166

श्रमिक  :    9000

कर्मचारी :     14

100 दिन काम की व्यवस्था

मनरेगा के तहत 100 दिन का कार्य देने की व्यवस्था है। पानीपत जिले में 6166 के लगभग परिवार मनरेगा के तहत रोजगार पा रहे हैैं। इन परिवारों में एक से अधिक मजदूर मनरेगा के तहत काम कर रहे है। जिले में मनरेगा का काम 14 कर्मचारी देख रहे हैैं।

12 को लगने वाले खुले दरबार में दें जानकारी

ईपीएफ के कमिश्नर अमित नैन ने कांट्रेक्ट पर काम करने वाले लोगों से आग्रह किया कि यदि उनका ईपीएफ नहीं कट रहा तो वे 12 फरवरी को हुडा सेक्टर छह स्थित ईपीएफ कार्यालय में लगने खुले दरबार में इसकी जानकारी दें।

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप