जागरण संवाददाता, पानीपत: आचार संहिता के बीच मांडी गांव में एक युवक दोनाली बंदूक और 32 बोर की पिस्तौल टांगे फिर रहा था। गुरुवार को सीआइए-1 पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। आरोपित हत्या के मामले में नामजद रह चुका है। गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव के मद्देनजर प्रशासन ने लाइसेंसी हथियार जमा कराने के आदेश जारी किए हुए हैं।

सीआइए-1 प्रभारी इंस्पेक्टर संदीप छिक्कारा ने बताया कि मुखबिर ने आरोपित सोमबीर के बारे में सूचना दी थी। उसके पास लाइसेंसी डबल बैरल की डोगा (दुनाली बंदूक) और 32 बोर की पिस्तौल है। हालांकि, आरोपित ने इन हथियारों को कई साल से लाइसेंस रिन्यू नहीं कराया। जांच में पता चला कि लाइसेंस 13 मार्च 2014 तक ही वैध था। वहीं, आचार संहिता के बीच प्रशासनिक निर्देशों के बावजूद आरोपित ने इन हथियारों को थाने में जमा नहीं कराया। थाना इसराना पुलिस ने केस दर्ज करते हुए सोमबीर को गिरफ्तार कर लिया।

14 महीने खा चुका जेल की हवा

इंस्पेक्टर संदीप छिक्कारा ने बताया कि 2012 में हत्या के केस में सोमबीर 14 महीने तक जेल में रह चुका है। हालांकि, बाद में इस मामले में वह बरी हो गया था। उसके खिलाफ मारपीट का भी मामला दर्ज है। आरोपित सोमबीर को अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस