जेएनएन, पानीपत। यहां के गांव जलमाना के पास बड़ा हादसा हो गया। सुबह सैर करने निकले एक परिवार को लगा कि यमुना का जलस्‍तर कम है। युवती ने सोचा कि यहीं नहा लेते हैं। जैसे ही वो अंदर गई, उसके पीछे दो बच्‍चे भी आ गए। तीनों ही नदी में डूब गए। इन्‍हें बचाने गए तीन और लोग डूब गए। अब तक तीन के शव मिल चुके हैं। गोताखार बाकी तीन की तलाश कर रहे हैं। जलमाना गांव के साथ करहंस और चंदौली में हाहाकर मच गया है। दो लोग करहंस और चंदौली के थे। 

जलमाना गांव पानीपत में यमुना नदी के साथ ही लगता है। यहां की रहने वाली सरिता अपने बेटे 15 वर्षीय सागर और 13 वर्षीय बेटी पायल के साथ नहर के पास सैर करने आई थी। उनके साथ 20 वर्षीय सोनिया भी थी। सोनिया ने कहा कि यहां पर पानी कम है। वह नहाने जा रही है। उसके पीछे सागर और पायल भी आ गए।

इस तरह डूब गए छह लोग

देखते ही देखते तीनों डूबने लगे। ये देखकर बच्‍चों की मां सोनिया भी नदी में कूद गई। वो भी डूबने लगी। चंदौली का युवक बादल और करहंस गांव का एक युवक ने इन्‍हें बचाने के लिए नहर में छलांग दी, पर किसी को बचाया नहीं जा सका। ये दोनों भी डूबने लगे। आसपास के लोगों ने शोर मचा दिया। जब तक गोताखार और ग्रामीण आए, तब तक चार लोग डूब चुके थे। तीन के शव मिल चुके हैं। तीन की तलाश जारी है।

रिश्‍तेदारी में आए थे युवक

चंदौली और करहंस के जो दो युवक डूबे हैं, वे जलमाना में अपने रिश्‍तेदारी में आए हुए थे। घटना के बाद दोनों के ही गांवों में शोक की लहर है। 

तीन शव मिले

सरिता, सोनिया और बादल का शव मिल चुका है। पायल, सागर और गौरव का अभी तक पता नहीं चला है। तलाश जारी है। ग्रामीण सांस थामे वहां मौजूद हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस